महज 35 करोड़ में नीलाम हो गया विजय माल्या का लग्जरी जेट

मुंबई। भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के लक्जरी जेट को मार्च, 2016 से अब तक नीलाम करने के चार विफल प्रयासों के बाद अंततः सर्विस टैक्स विभाग ने उसे बहुत ही सस्ते में बेच दिया है।

फ्लोरिडा की एक एविएशन मैनेजमेंट सेल्स कंपनी ने पिछले शुक्रवार को इसे महज 34.8 करोड़ रुपये (55 लाख डॉलर) में बेच दिया है।

सर्विस टैक्स प्रशासन ने अक्टूबर, 2012 में किंगफिशर एयरलाइंस के दिवालिया घोषित होने के बाद उसके 800 करोड़ रुपये के बकाए सर्विस टैक्स को वसूलने के लिए विजय माल्या के लक्जरी ए319 जेट को नीलाम करने में नाको चने चबाने पड़े। एक सूत्र ने बताया कि लक्जरी जेट को बेचने का लेन-देन इसी शुक्रवार को एक ई-नीलामी के जरिए पूरा हुआ है।

सर्विस टैक्स विभाग को कर्नाटक हाईकोर्ट के आदेश के बाद आनन-फानन में यह कदम उठाना पड़ा चूंकि माल्या का निजी लक्जरी विमान जब्त होने के बाद वर्ष 2013 से मुंबई के एयरपोर्ट पर ही खड़ा है। हालांकि इस सौदे को पूरा तभी माना जाएगा जब बांबे हाईकोर्ट इसको मंजूरी दे दे।

सूत्रों ने बताया कि फ्लोरिडा स्थित अमेरिकी एविएशन मैनेजमेंट सेल्स कंपनी एलएलसी ने इस विमान के लिए सबसे ऊंची बोली 34.8 करोड़ रुपये लगाए थी और उसे कामयाबी मिली।

उल्लेखनीय है कि सर्विस टैक्स विभाग ने अपने पहले प्रयास में मार्च 2016 में इसका बेस प्राइस 152 करोड़ रुपये तय किया था।

लेकिन तब बोली लगाने वाला एक ही शख्स सामने आया जिसने 1.09 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। इसके बाद हताश होकर सर्विस विभाग ने इस नीलामी को ही रद कर दिया।

उसके बाद अपने अगले प्रयास में विमान का बेस प्राइस दस फीसद कम कर दिया। इसके पश्चात 2.25 करोड़ डॉलर का रिजर्व प्राइस कम करके 1.25 करोड़ डॉलर की बोली लगाई।

आखिरी बिडिंग मार्च 2017 में एसएसटीसी ने कराई। सर्विस टैक्स विभाग ने इस लग्जरी विमान को दिसंबर, 2013 में जब्त किया था।

विभाग को यह विमान आनन-फानन में इसलिए बेचना पड़ा क्योंकि मुंबई एयरपोर्ट आपरेटर एलआइएएल ने बांबे हाईकोर्ट में अपील करके कहा कि वह विभाग को इस विमान को एयरपोर्ट से हटाने का निर्देश दे क्योंकि बेहद व्यस्त मुंबई एयरपोर्ट की जगह घेरकर भारी नुकसान कर रहा है।

किंगफिशर एयरलाइंस मामले में कर्नाटक हाईकोर्ट के आधिकारिक ऋणशोधक बांबे हाईकोर्ट ने इसी साल जनवरी में मुंबई एयरपोर्ट से विमान को हटाने के लिए भरसक प्रयास किए।