महाकाल का अभिषेक कैसे हो? SC तय करेगा, 7 ज्योतिर्लिंग पर नहीं चढ़ता दूध

उज्जैन (इंदौर).महाकाल शिवलिंग पर पंचामृत (दूध, दही, शहद, शकर, घी) से अभिषेक होना चाहिए या नहीं, या इसकी कितनी क्वांटिटी होनी चाहिए, इसका फैसला सुप्रीम कोर्ट करेगा। चढ़ावे से शिवलिंग का आकार छोटा (क्षरण ) होने को लेकर दायर याचिका पर कोर्ट के आदेश से बनी एक्सपर्ट की कमेटी ज्योतिर्लिंग की जांच कर चुकी है। कमेटी ने पंचामृत की क्वांटिटी को तय करने की सिफारिश की है। इस रिपोर्ट पर कोर्ट में 27 अक्टूबर को सुनवाई होगी।   देश के दूसरे ज्योतिर्लिंग के पुजारियों और मंदिर ट्रस्ट के मेंबर्स और पुजारियों से बातचीत कर यह जानने की कोशिश की कि उन्होंने क्षरण रोकने के लिए क्या कदम उठाए हैं। 7 ज्योतिर्लिंग पर श्रद्धालु दूध-पंचामृत से अभिषेक नहीं कर सकता….
– देश में 12 में से 7 ज्योतिर्लिंग पर श्रद्धालु दूध-पंचामृत से अभिषेक नहीं कर सकता। इनमें ओंकारेश्वर, घृष्णेश्वर, त्रंबकेश्वर, भीमाशंकर, मल्लिकार्जुन, केदारनाथ और सोमनाथ शामिल हैं। यहां एक तय क्वांटिटी में पुजारी ही अभिषेक कर सकता है। शेष 5 में से 3 ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ, रामेश्वरम और नागेश्वर में रोक तो नहीं है, लेकिन क्षरण न हो इसके लिए सावधानी भी बरती जा रही है।

महाकाल में भांग से किया जाता है शृंगार, भस्म से होती है आरती

– उज्जैन के ज्योतिर्लिंग के क्षरण की बात पहले भी सामने आती रही है, लेकिन कमेटी की रिपोर्ट में पहली बार इस बात की पुष्टि हुई है कि नुकसान हो रहा है।

महाकाल की ऐसे होती है पूजा

– पुजारी प्रदीप गुरु के मुताबिक, सुबह पंचामृत से अभिषेक होता है। फिर जलाभिषेक और भस्म आरती। रात तक 4 बार अभिषेक होता है। श्रद्धालु दिनभर में कई बार पंचामृत चढ़ाते हैं। भांग से शृंगार होता है।

दूसरे ज्योतिर्लिंग में कैसे होती है पूजा

1) त्र्यंबकेश्वर: पंचामृत पर लगी है रोक, सिर्फ जलाभिषेक कर सकते हैं
– यह ज्योतिर्लिंग नासिक जिले में गोदावरी नदी के पास है। यहां दूध या पंचामृत चढ़ाना प्रतिबंधित है। यह रोक करीब तीन साल से है। पहले श्रद्धालु मन्नत के मुताबिक 100 लीटर तक दूध या पंचामृत चढ़ाते थे।
ऐसे होती है पूजा
– त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पुरोहित कमलाकरजी ने बताया ट्रस्ट की तरफ से त्रिकाल पूजा होती है। काफी कम मात्रा में पंचामृत से अभिषेक होता है। श्रद्धालु जल और फूल ही चढ़ा सकते हैं। दर्शन का वक्त भी तय है। कम समय के लिए लोगों को गर्भगृह में जाने की अनुमति होती है।
2) सोमनाथ: श्रद्धालुओं के प्रवेश पर ही रोक, दूर से चढ़ता है जल
– मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र में है। विदेशी आक्रमणों के कारण यह मंदिर 17 बार नष्ट हो चुका है। इसे हर बार बनाया गया। हालांकि, शिवलिंग को नुकसान पहुंचा हो ऐसी कोई रिपोर्ट अब तक नहीं आई। इसके बावजूद शिवलिंग को बचाए रखने के लिए चांदी का थाल बनवाया गया है।
ऐसे होती है पूजा
– सोमनाथ ट्रस्ट के जनरल मैनेजर विजयसिंह चावड़ा के अनुसार गर्भगृह में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक है।
– व्यवस्था ऐसी है कि वे दूर से जल से अभिषेक कर सकते हैं। सोमनाथ मंदिर न्यास पूजा का क्रम तय करता है। निर्धारित क्रम से अतिरिक्त कोई पूजा नहीं होती।
3) केदारनाथ: दूध प्रतिबंधित, गंगाजल से अभिषेक
– उत्तराखंड में केदारनाथ में दूध चढ़ाना प्रतिबंधित है। लोग यहां पैकेट वाला दूध चढ़ाते थे, जो केमिकलयुक्त होता है। इससे ज्योतिर्लिंग को नुकसान हो रहा था। यहां बड़ी मात्रा में घी अर्पित करने की परंपरा है।