महिला की आप बीती सुन कर भावुक हुए राहुल गाँधी

गुजरात के शिक्षकों के साथ संवाद सत्र में एक अंशकालिक महिला लेक्चरर की आपबीती सुनने के बाद भावुक राहुल गांधी ने उन्हें गले से लगा लिया।
गुजरात में पहले चरण के चुनाव से पूर्व राहुल के दो दिवसीय दौरे में रंजना अवस्थी सहित राज्य के लेक्चरर, प्रोफेसर और स्कूल शिक्षकों को इस सत्र में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया गया था।

ठाकोरभाई देसाई हॉल में राहुल के भाषण के बाद रिटायरमेंट के करीब पहुंच चुकी रंजना को सवाल पूछने के लिए माइक दी गई। तो उन्होंने रूंधे गले से कहा कि उनके जैसे पार्टटाइम कई लेक्चरर को गुजरात में मूल अधिकार तक प्राप्त नहीं हैं।

22 साल की सेवा के बाद भी उनका वेतन महज 12000 रुपये प्रति माह है। इस सेवा में रहते हुए उन्होंने कई बुरे दिन देखे हैं। यहां तक कि उन्हें मातृत्व अवकाश भी नहीं मिलता है।

उन्होंने राहुल से पूछा कि यदि कांग्रेस सत्ता में आती है तो शिक्षा बिरादरी के लिए उनकी पार्टी की क्या योजना है। उन्होंने राहुल से अपील की कि अंशकालिक शिक्षकों को सेवानिवृत्ति के बाद पेंशन सुनिश्चित कराएं। उसके बाद राहुल ने अपना माइक मंच पर रख कर रंजना के पास गए और उन्हें ढांढस बंधाते हुए उन्हें गले से लगा लिया।