मुंबई के घाटकोपर में इमारत पर गिरा चार्टर्ड प्लेन, 5 की मौत, ब्लैक बॉक्स मिला

मुंबई। मुंबई के अत्यंत घनी आबादी वाले उपनगर घाटकोपर में गुरुवार की दोपहर 12 सीटों वाला एक चार्टर्ड विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसे में विमान में सवार चार लोगों सहित एक राहगीर की भी मौत हो गई, जबकि तीन लोग घायल हैं। दुर्घटना के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है।

डीजीसीए के अधिकारियों के अनुसार यूवाई एविएशन प्रा.लि. के विमान किंग एयर सी-90 वीटी-यूपीजेड ने दोपहर 12.15 बजे जुहू विमानतल से उड़ान भरी। करीब एक घंटे की उड़ान के बाद विमान जुहू विमानतल पर उतरने ही वाला था कि किसी खराबी के कारण विमान ने अपना संतुलन खो दिया और विमान घाटकोपर इलाके में एक निर्माणाधीन इमारत के पास गिर गया।

विमान के गिरते ही जोर के धमाके के साथ उसमें आग लग गई। विमान की चपेट में एक राहगीर भी आकर बुरी तरह जल गया। जबकि तीन अन्य राहगीर घायल बताए जा रहे हैं। पता चला है कि दुर्घटनाग्रस्त विमान को को-पायलट मारिया ज़ुबेरी (48) उड़ा रही थीं।

उनके साथ मुख्य पायलट कैप्टन पी.एस.राजपूत, फ्लाइट इंजीनियर सुरभि ब्रिजेशकुमार गुप्ता (34) एवं एयरक्राफ्ट टेक्नीशियन मनीष तेजपाल पांडे (21) भी विमान में सवार थे। कैप्टन राजपूत जालंधर के एवं मारिया ज़ुबेरी ठाणे के मीरा रोड की निवासी हैं। मारे गए राहगीर का नाम गोविंद पंडित है। दमकल विभाग को दोपहर 1.15 बजे घाटकोपर में विमान गिरने की सूचना मिली।

दमकल विभाग की कई गाड़ियां कुछ मिनटों में ही वहां पहुंच गईं। आपदा प्रबंधन एवं पुलिस बल ने भी मोर्चा संभाल लिया। दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल राहगीर को तुरंत एंबुलेंस में निकट के राजावाड़ी अस्पताल ले जाया गया। लेकिन उसकी मृत्यु हो चुकी थी।

यूवाई एविशन का कहना है कि विमान उड़ा रहे दोनों पायलट काफी अनुभवी थे। पायलट कैप्टन पी.एस.राजपूत को 5000 घंटों से ज्यादा की उड़ान का अनुभव था। को-पायलट मारिया भी जेट एयरवेज में काम कर चुकी थीं।

यह विमान 22 साल उत्तर प्रदेश सरकार की सेवा में रहा था। यूवाई एविएशन ने इसे 2014 में खरीदा था। विमान तब से खड़ा था। हाल में इसे सर्विसिंग के लिए इनामदार एविएशन लि. को दिया गया था।

प्रारंभिक जांच शुरू :

डीजीसीए की टीम ने विमान दुर्घटना की प्रारंभिक जांच शुरू कर दी है। लेकिन विस्तृत जांच एयरक्राफ्ट एक्सीडेंट इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो (एएआइबी) करेगा। दुर्घटनाग्रस्त विमान का ब्लैक बॉक्स जांच टीम को मिल गया है।

महाराष्ट्र में ट्रायल पर निकले विमानों की दो दिन के अंदर यह दूसरी दुर्घटना है। इससे पहले बुधवार को ही नासिक में सुखोई जेट विमान भी टेस्ट फ्लाइट के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

को-पायलट मारिया की सराहना :

हालांकि नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु एवं पूर्व नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल दोनों ने विमान उड़ा रही को-पायलट मारिया ज़ुबेरी की इस बात के लिए तारीफ की है कि उन्होंने अत्यंत घनी आबादी के ऊपर उड़ रहे विमान में खतरा भांपते ही उसे एक निर्माणाधीन इमारत के पास ले जाकर उतारने की कोशिश की। इससे जनहानि विमान में सवार चार लोगों के साथ सिर्फ एक राहगीर तक ही सीमित रही। अन्यथा हादसा बहुत बड़ा हो सकता है।

बताया जा रहा है कि जिस इमारत पर यह विमान गिरा है वो निर्माणाधीन थी। हादसे का शिकार हुआ विमान यूपी सरकार का बताया जा रहा था, लेकिन यूपी सरकार के मुख्य सचिव ने इससे इन्कार कर दिया है। अधिकारियों के मुताबिक, दुर्घटनाग्रस्त विमान को कुछ साल पहले ही बेच दिया गया था।

हादसे के बाद आग से लिपटे विमान से एक जलता हुआ शख्स बाहर निकला है। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार विमान में पायलट समेत पांच लोगों की मौत हो गई है।

बताया जा रहा है कि यह विमान टेस्ट फ्लाइट पर था और लैंड होने की तैयारी कर रहा था और उससे पहले क्रैश हो गया। हादसे के बाद इमारत में आग लग गई है और इस पर काबू पाने के लिए दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंच चुकी है। जिस इलाके में विमान क्रैश हुआ है वह रिहायशी इलाका है जिसके बाद यहां अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया है।