मुंबई विमान हादसाः लंच ब्रेक ना होता तो जाती कई जानें

मुंबई। घाटकोपर इलाके में हुई विमान दुर्घटना में मारे जाने वाले लोगों की तादाद बढ़ सकती थी, अगर उस समय भोजन अवकाश न होता। ज्यादातर मजदूर पास के दूसरे निर्माणाधीन भवन में भोजन कर रहे थे। उसी दौरान चार्टर्ड विमान निर्माणाधीन भवन पर जा गिरा था। हादसा दोपहर 1.11 बजे हुआ। पु

लिस का भी मानना है कि कम से कम 40 मजदूरों की जान भोजन अवकाश के कारण बच गई। हादसे में पांच लोगों की मौत हुई थी। इनमें चार विमान के चालक दल के सदस्य थे जबकि एक राहगीर था। तीन निर्माण मजदूरों को मामूली चोट लगी। उन्हें नागरिक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। श्रमिक नरेश निषाद के चेहरे पर चोट लगी।

उसका कहना है कि उस समय हल्की बारिश शुरू हो गई थी। इस वजह से सभी मजदूर पास के भवन में भोजन करने चले गए थे। अगर बारिश न होती तो सारे उसी भवन में बैठकर भोजन कर रहे होते। ऐसे में जानमाल का नुकसान बढ़ सकता था।

छत्तीसगढ़ के रहने वाले नरेश का कहना है कि उन्हें नहीं पता कि विमान कहां से आया। एक अन्य मजदूर का कहना है कि अगर विमान किसी ऊंची बिल्डिंग पर जा गिरता तो अनुमान लगाना मुश्किल है कि कितने लोगों की जान जाती।

उत्तर प्रदेश के लवकुश का कहना है कि सब कुछ सामान्य था कि अचानक तेज धमाके की आवाज सुनाई दी। वह उस समय भवन में नहीं थे। इस वजह से जान बच गई। अन्यथा वह भी मारे जाते। ध्यान रहे कि विमान उत्तर प्रदेश सरकार का था। इसे यूवाई कंपनी को बेच दिया गया था। इसने जुहू से उड़ान भरी थी। लेकिन वापसी में जुहू से चार नॉटिकल मील दूर ही यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।