मौत के बाद यहां होती हैं अजीबो-गरीब चीजें.

आमतौर पर किसी इंसान की मौत के बाद उसे जलाया, दफनाया या चील-कौओं के खाने के लिए छोड़ दिया जाता है। लेकिन इनके अलावा भी कई ऐसे रिवाज हैं जो आपके लिये अजीब हो सकती हैं पर उनका पालन करने वालों के लिए पंरपरा है। एक नजर अन्त्येष्टि से जुड़ी ऐसी ही कुछ प्रथाओं पर…
शवों को खाना
ब्राजील के वारी जनजाति के लोग और पापुआ न्यू गिनी में मेलानेसियन लोगों के बीच शवों को खाने की परंपरा है। उनका मानना है कि ऐसा करने से मौत से जुड़ा डर न हीं रहता।
अस्थियों का सूप पीना
दक्षिण अमेरिका के अमेजन में बसे यानोमामी जनजाति के लोगों के बीच शवों की राख का सूप बनाकर या उसकी हड्डियों को खाने की प्रथा है। मान्यता है कि ऐसा करने से मरने वाला इंसान हमेशा उनके करीब रहता है।
कब्र से शवों को बाहर निकालना
इंडोनेशिया के दक्षिण सुलेवासी में ताना तोरजा में रहने वाले लोग हर सात साल पर पूर्वजों के शव को कब्र से निकालते हैं, उन्हें नए कपड़े पहनाते हैं और नाचते-गाते हैं। शव से बदबू आती है तो वह उसपर वाइन की कुछ बूंदे छिड़क देते हैं।

कैसा लगा
शव को बीड्स में तब्दील करना
दक्षिण कोरिया में शव को जलाने के बाद उसके राख को नीले, हरे या गुलाबी रंग की बीड्स में तब्दील कर दिया जाता है। फिर इन्हें शीशे की जार में रखकर लोग घर में सजाते हैं। देश में कब्रों के लिए कम पड़ती जगह के मद्देनजर यह अनोखा तरीका इजाद किया गया।