यूपी विधानसभा का बजट सत्र आज से, विपक्ष ने की सरकार को घेरने की तैयारी

लखनऊ : यूपी की योगी सरकार मंगलवार को अपना पहला बजट विधानसभा में पेश करेगी. इसी के साथ राज्य विधानमंडल का बजट सत्र मंगलवार को शुरू हो जाएगा. वित्तमंत्री राजेश अग्रवाल सदन में दोपहर बारह 12.20 पर वित्तीय वर्ष 2017-18 का बजट रखेंगे. बजट में गरीबों के लिए कई योजनाएं आने की उम्‍मीद की जा रही है.

विपक्ष ने कानून व्यवस्था तथा अन्य विभिन्न मुद्दों को लेकर राज्य सरकार को घेरने की तैयारी की है. आगामी 28 जुलाई तक चलने वाले इस सत्र में विपक्षी दल खासतौर से सपा और कांग्रेस कानून-व्यवस्था, किसानों की कर्ज माफी, किसानों द्वारा आत्महत्या आदि मामलों को उठाकर सरकार को सदन में घेरने की कोशिश करेंगे.

अखिलेश सरकार ने फरवरी में जो बजट लाई थी उसके जरिए अप्रैल से अगस्त तक के खर्चे का इंतजाम है. अब सरकार पूर्ण बजट ला रही है. सबसे बड़ी चुनौती तो यह है कि अब इसे खर्च के लिए नौ महीने से भी कम वक्त बचा है. सपा प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि प्रदेश में अपराध का ग्राफ तेजी से बढ़ने के मामले को सदन में जोरशोर से उठाया जाएगा.

योगी ने कहा था कि उनकी सरकार ने विभिन्न हस्तियों के नाम पर होनेवाले 15 सार्वजनिक अवकाशों को समाप्त कर दिया है और इससे सालाना करीब 50,000 करोड़ रुपये के राजस्व की बचत होगी. किसानों की कर्ज माफी के वास्ते धन एकत्र करने के लिए राज्य मंत्रिमंडल ने 36,359 करोड़ रुपये की धनराशि जुटाने के मकसद से किसान राहत बांड जारी करने का फैसला किया है.

इसके अलावा राज्य सरकार ने हुडको, नाबार्ड ग्रामीण विद्युतीकरण निगम तथा विद्युत वितरण निगम से 16,580 करोड़ रुपये का कर्ज लेने का फैसला भी किया है. इस धन का इस्तेमाल सड़कें बनाने, राजमार्गो को उच्चीकृत करने एक्सप्रेस-वे बनवाने, ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबों के लिए मकान बनवाने तथा नगरीय विकास एवं बिजली वितरण नेटवर्क को मजबूत करने में किया जाएगा.

हटेगा योजनाओं से समाजवादी नाम
बजट में खास यह होगा कि पिछली सरकार की समाजवादी नाम वाली तमाम योजनाओं से तौबा कर ली गई है. इनकी जगह योजनाओं के नाम में मुख्यमंत्री जुड़ गया है. समाजवादी पेंशन योजना खत्म हो गई है. पंडित दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर कई योजनाओं की शुरुआत होगी. बजट में इसके लिए पैसा भी रखा जाएगा.