रमजान 2017: रोजे के दौरान बरतें ये एहतियात, बचे रहेंगे एसिडिटी से

रमजान के पवित्र महिने में रोजेदार पूरे 30 दिनों तक भूखे प्यासे रहकर आल्हा की इबादत करते हैं। जानकारी के अाभाव में रोजा खोलते समय कई बार अपनी डाइट में आप कुछ ऐसी चीजें शामिल कर लेते हैं जिनसे आपको एसिडिटी की शिकायत होने लगती है।
आगे की स्लाइड्स में क्लिक करके जानें इस पवित्र महिने में कैसे कुछ एहतियात बरतकर आप एसिडिटी की समस्या से दूर रह सकते हैं।
रोजा खोलते समय खाना खाने के तुरंत बाद सोने से बचना चाहिए। ऐसा करने से शरीर में एसिड बनने लगता है जिसकी वजह से सीने में जलन पैदा होने लगती है।
नाश्ते में जरूरत से ज्यादा खाने की वजह से भी एसिडिटी की समस्या होती है। नाश्ते में हमेशा अधिक कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन युक्त आहार को शामिल करना चाहिए। ऐसा करने से सारा दिन आप ऊर्जा से भरे रहेंगे साथ ही आपको भूख भी नहीं लगेगी।
अपने दिन की शुरूआत हमेशा आसानी से पचने वाले फलों के साथ करनी चाहिए। साथ ही हमेशा इस बात का भी ध्यान रखें कि जब भी आप अपना रोजा खोलें छोटे-छोटे कौर ढ़ंग से चबा-चबाकर खाएं। ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र ठीक रहता है।
रोजा खोलते समय सबसे पहले अपने अाहार में फल और खजूर को शामिल करें।
अपने अाहार में फलों को शामिल करते वक्त इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि आपके अाहार में नॉन सिट्रिक और पानी वाले फल शामिल हो। ऐसा करने से आपके शरीर में एसिड की मात्रा नहीं बढ़ेगी।