राजस्थानी में शपथ नहीं दिलाई तो भाजपा विधायक ने मुंह पर पट्‌टी बांधकर जताया विरोध

जयपुर. राज्य की 15वीं विधानसभा का पहला सत्र मंगलवार से शुरू हो गया। प्रोटेम स्पीकर गुलाबचंद कटारिया ने सबसे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को शपथ दिलाई। विधायक अशोक लाहोटी ने संस्कृत में शपथ ली। कुछ विधायक राजस्थानी में शपथ ग्रहण करना चाहते थे, लेकिन प्रोटेम स्पीकर ने मना कर दिया, तो विधायक ने मुंह पर पट्‌टी बांधकर विरोध जताया। अब मंत्री और विधायक शपथ ले रहे हैं।

नोखा के भाजपा विधायक बिहारीलाल बिश्नोई ने विधायक पद की शपथ राजस्थानी में शपथ दिलवाने का आग्रह किया था। इसके लिए बिश्नोई ने विधानसभा सभापति को राजस्थानी में ही पत्र लिखकर यह मांग की थी, जिसे प्रोटेम स्पीकर ने खारिज कर दिया, जिसके चलते वे मुंह पर पट्टी बांधकर पहुंचे।

कई विधायक अनोखे अंदाज में विधानसभा में पहले बार विधानसभा पहुंचे। बहरोड़ से विधायक बलजीत यादव खुद ट्रैक्टर चलाकर विधानसभा पहुंचे। वहीं, ओमप्रकाश हुड़ला नंगे पैर और बीडी कल्ला तिरंगा साफा पहनकर विधानसभा पहुंचे। जिन्होंने विधानसभा में जाने से पहले सीढ़ियों पर माथा टेका।

आज पूरे दिन यहीं कार्यक्रम चलेगा। प्रोटेम स्पीकर के रूप में गुलाबचंद कटारिया को नियुक्त किया गया है। उनकी मदद के लिए 3 सदस्य भंवरलाल शर्मा, परशुराम मोरदिया व महादेव सिंह भी नामित किए गए हैं। कांग्रेस ने सीपी जोशी को विधानसभा अध्यक्ष का प्रत्याशी बनाया है। शपथ के बाद उनका चयन होगा। महेश जोशी मुख्य सचेतक और महेंद्र चौधरी को उप मुख्य सचेतक बनाए गए हैं। राहुल गांधी के आदेश के बाद ही तीनों का नाम फाइनल किया गया।

कटारिया ही होंगे नेता प्रतिपक्ष

राजस्थान के पूर्व गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी होंगे। भाजपा विधायक कटारिया 15वीं विधानसभा में आठवीं बार विधायक बनकर पहंचे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने विधायक दल की बैठक के बाद कटारिया को नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने का ऐलान किया।