राजस्थान में निजी स्कूल-कॉलेज बंद रहे, जयपुर व जालौर में इंटरनेट बंद

जयपुर। जाति आधारित आरक्षण के विरोध में भारत बंद का मंगलवार को मिला-जुला असर देखने को मिला। जयपुर सहित राजस्थान में ज्यातादर शहरों में सुबह शिक्षण संस्थान व व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे। सीकर व कोटा में बंद का व्यापक असर रहा। बंद के आह्वान को देखते हुए पुलिस का भारी जाब्ता तैनात किया गया है। जयपुर में 15 हजार जवान तैनात किए गए हैं। सुरक्षा के देखते हुए जयपुर व जालौर में इंटरनेट बंद किया गया है। साथ ही यहां धारा 144 लगा दी गई है। वहीं बंद को लेकर असमंजस है। व्यापारी न तो इसका समर्थन कर रहे हैँ और न ही विरोध।

– राजस्थान में ज्यादातर निजी स्कूलों में छुट्टी रही। पिछले भारत बंद के दौरान हुई हिंसा को देखते हुए निजी स्कूलों ने यह फैसला किया।
– वहीं सीकर में बंद का व्यापक असर रहा।
– जयपुर के सोडाला, गूजर की थड़ी, मानसरोवर में दुकानें व प्रतिष्ठान बंद रहे। सुबह आठ बजे खुलने वाली दुकानें सुबह 10 तक बंद रहीं। झोटवाड़ा, मुरलीपुरा, खातीपुरा में दुकानें बंद रहीं।
– चौमू का कालाडेरा पूरी तरह से बंद रहा।

जयपुर में पुलिस का भारी जाब्ता तैनात
– पिछले भारत बंद के दौरान हुई व्यापक हिंसा से सबक लेते हुए हुए जयपुर में 15 हजार जवान तैनात किए गए हैं।
– पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल पूरे हालात की लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

बंद को लेकर असमंज

बंद को लेकर व्यापारियों में असमंज है। चूंकि बंद का आह्वान किसी संगठन ने नहीं किया है। ऐसे में व्यापारियों ने स्वेच्छा से बंद रखा है।

– व्यापारियों का कहना है कि न तो वे बंद के विरोध में हैं और न समर्थन में।

दो जिलों में इंटरनेट बंद

– सुरक्षा को देखते हुए जयपुर व जालौर में इंटरनेट बंद रखा गया है। पिछले भारत बंद में जालौर में काफी हिंसा हुई थी।

– इंटरनेट बंद होे से लोगों को काफी परेशानी हुई।

खाली चलीं बसें
– बंद के कारण लोगों ने यात्रा से परहेज किया। बहुत आवश्यक होने पर ही लोग घरों से बाहर निकले। इसलिए बसें खाली चलीं।