रायपुर : कृषि उपज मंडियों की सम्पत्तियों के बेहतर रख-रखाव के लिए बनेगी कार्य योजना : कृषि मंत्री की अध्यक्षता में मंडी बोर्ड के संचालक मंडल की बैठक में निर्णय

वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए प्रस्तावित आय-व्यय का अनुमोदन
पत्थलगांव फल-सब्जी मंडी तथा नवीन आदर्श मंडी कोपागुड़ा
के लिए वित्तीय स्वीकृति भी अनुमोदित
रायपुर, 27 फरवरी 2018
छत्तीसगढ़ की कृषि उपज मंडियों और उप मंडियों की संपत्तियों को सुरक्षित और सुव्यवस्थित करने के लिए व्यापक रिपोर्ट तैयार की जाएगी। इस रिपोर्ट के आधार पर इन परिसंपत्तियों को व्यवस्थित करने कार्य योजना बनेगी। कृषि मंत्री एवं छत्तीसगढ़ मंडी बोर्ड के अध्यक्ष श्री बृजमोहन अग्रवाल की अध्यक्षता में आज यहां विधानसभा परिसर स्थित समिति कक्ष में आयोजित बोर्ड के संचालक मंडल की 49वीं बैठक में यह निर्णय लिया गया। कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने अधिकारियों को एक माह के भीतर सभी मंडियों और उपमंडियों की सम्पत्तियों के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए। बैठक में मंडी बोर्ड के सदस्य एवं विधायक श्री शिवरतन शर्मा, श्री मोतीराम चंद्रवंशी तथा श्रीमती चम्पादेवी पावले उपस्थित थे। कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त श्री सुनील कुजूर सहित विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में मौजूद थे। मंडी बोर्ड के प्रबंध संचालक श्री अभिजीत सिंह ने बैठक के लिए निर्धारित एजेण्डा की जानकारी दी। उन्होंने बिन्दुवार सभी प्रस्तावों के संबंध में विस्तार से बताया।
संचालक मंडल की बैठक में वित्तीय वर्ष 2016-17 की वास्तविक आय-व्यय तथा वित्तीय वर्ष 2017-18 की पुनरीक्षित आय-व्यय का अनुमोदन किया गया। इसके साथ ही आगामी वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए प्रस्तावित आय और व्यय का अनुमोदन बैठक में किया गया। अगले वित्तीय वर्ष में मंडी बोर्ड को 198 करोड़ 76 लाख 42 हजार रूपए की आय तथा 308 करोड़ 69 लाख 55 हजार रूपए व्यय का अनुमान है। बैठक के प्रस्ताव अनुसार वित्तीय वर्ष 2016-17 में 178 करोड़ 71 लाख 91 हजार रूपए की वास्तविक आय हुई। इस आय के विरूद्ध 143 करोड़ 66 लाख 83 हजार रूपए का व्यय हुआ। वित्तीय वर्ष 2017-18 में 276 करोड़ 57 लाख 16 हजार रूपए की पुनरीक्षित आय प्राप्त हुई। इस वर्ष के 197 करोड़ 28 लाख 62 हजार रूपए के पुनरीक्षित व्यय का अनुमोदन किया गया।
बैठक में राज्य शासन द्वारा अधिसूचित छत्तीसगढ़ वेतन पुनरीक्षण नियम 2017 को राज्य मंडी बोर्ड तथा मंडी समितियों के अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए भी लागू करने के प्रस्ताव की स्वीकृति दी गई। बैठक में बताया गया कि जशपुर जिले के पत्थलगांव में फल-सब्जी मंडी स्थापित करने की कार्य योजना बनाई गई है। इसके लिए पत्थलगांव के नजदीक मदनपुर में चार हेक्टेयर से अधिक शासकीय जमीन पत्थलगांव मंडी समिति को आवंटित की गई है। मंड़ी प्रांगण के लिए ले-आउट प्लान और ड्राइंग-डिजाइन तैयार करवा लिया गया है। नये मंडी परिसर के विकास में लगभग लगभग 10 करोड़ की लागत आएगी। बैठक में पत्थलगांव मंडी के लिए अनुमानित लागत की 50 प्रतिशत राशि मंडी बोर्ड से अनुदान के रूप में, 35 प्रतिशत राशि ब्याजमुक्त ऋण के रूप में तथा शेष 15 प्रतिशत राशि राज्य विपणन विकास निधि एवं मंडी निधि से स्वीकृति देने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। कृषि उपज मंडी जगदलपुर के अंतर्गत कोपागुड़ा में फल-सब्जी उपमंडी के लिए तीन करोड़ 22 लाख 92 हजार रूपए के विशेष ऋण के कार्योत्तर स्वीकृति का अनुमोदन भी किया गया।
बैठक में मंडी निरीक्षकों की सीधी भर्ती के लिए निर्धारित 50 प्रतिशत पदों में से 20 प्रतिशत पद पर अर्थात कुल स्वीकृत पदों के 10 प्रतिशत को राज्य मंडी बोर्ड सेवा संवर्ग के डाटा एण्ट्री ऑपरेटरों तथा मंडी सेवा समिति संवर्ग के डाटा एण्ट्री ऑपरेटरों और सहायक ग्रेड-2 से भरे जाने के प्रस्ताव की स्वीकृति दी गई। इन दस प्रतिशत पदों पर मंडी निरीक्षक की निर्धारित शैक्षणिक योग्यता तथा पांच वर्ष सेवा पूरी करने वाले कर्मचारियों की विभागीय परीक्षा लेकर भर्ती की जाएगी। मंडी बोर्ड के दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों और हैण्ड रिसिप्ट कर्मचारियों की विभागीय परीक्षा लेकर नियमानुसार रिक्त पदों को भरने के लिए कार्रवाई करने का निर्णय लिया गया। मंडी बोर्ड के लिए अतिरिक्त प्रबंध संचालक और अपर संचालक के एक-एक नये पद सृजित करने का निर्णय लिया गया।
कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने मंडी बोर्ड से स्वीकृत सभी नये निर्माण कार्यों के लिए 31 मार्च तक निविदा की कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों को तेजी से समय पर पूरा करने के लिए तकनीकी सलाहकार नियुक्त करने का प्रस्ताव बनाया जाए। बैठक में बीज निगम के प्रबंध संचालक श्री आलोक अवस्थी, मार्कफेड के प्रबंध संचालक श्री अलबंगन पी, संचालक उद्यानिकी श्री नरेन्द्र पाण्डेय, संचालक कृषि श्री एम.एस. केरकेट्टा, वित विभाग अपर संचालक श्री सतीश पाण्डे, पंजीयक कार्यालय के अपर संचालक श्री ए.के. सिंह सहित मंडी बोर्ड के अन्य वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।