रायपुर : मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना ने लौटायी गरीब परिवारों की खुशियां

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज विश्व हृदय दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से लाभान्वित बच्चों के माता-पिता से मोबाईल पर बातचीत की और उनसे बच्चों के स्वास्थ्य और पढ़ाई-लिखाई के बारे में जानकारी प्राप्त की। ये वे बच्चे हैं, जिनके हृदय का आपरेशन सरकारी खर्चें पर हुआ है। मुख्यमंत्री ने आज इन बच्चों के अभिभावकों से बातचीत कर बच्चों के स्वास्थ्य की जानकारी ली। मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना के अंतर्गत इन बच्चों के हृदय का सफल ऑपरेशन हुए दो से आठ वर्ष का समय बीत गया है। मुख्यमंत्री ने इन बच्चों को स्वस्थ, सुदीर्घ और खुशहाल जीवन के लिए अपना आशीर्वाद प्रदान किया।
दुर्ग के मोतीपारा निवासी श्री अमृत यादव ने अपने मोबाइल पर मुख्यमंत्री की आवाज सुन कर अचंभित रह गए। मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि आज विश्व हृदय दिवस है। इस मौके पर वे मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना से लाभान्वित बच्चों के माता-पिता से बातचीत कर बच्चों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ले रहे हैं। मुख्यमंत्री ने श्री यादव से उनके बेटे सागर का हालचाल पूछा। सागर के पिता श्री अमृत यादव फल-सब्जियों की दुकान लगाते हैं। सागर की माता गृहणी है। मुख्यमंत्री ने श्री यादव से यह भी पूछा कि सागर स्कूल जाता है या नहीं।  सागर के हृदय का ऑपरेशन पांच वर्ष पहले किया गया था। सागर अब 10 वर्ष का हो गया है।
श्री यादव ने मुख्यमंत्री को बताया कि सागर पूरी तरह स्वस्थ है और स्कूल गया है। मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि वे सागर की पढ़ाई-लिखाई पर ध्यान दें और उसका भविष्य संवारे। मुख्यमंत्री से बातचीत के दौरान अमृत यादव भावुक हो गए। उन्होंने सागर के हृदय के ऑपरेशन के लिए राज्य सरकार द्वारा दी गई सहायता के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि उनके लिए अपने बेटे का हृदय का ऑपरेशन कराना काफी कठिन काम था, लेकिन सरकार की मदद से उनका बेटा अब पूरी तरह स्वस्थ है और सामान्य बच्चों की तरह खेलता-कूदता है।
मुख्यमंत्री ने बेमेतरा जिले के नवागढ़ विकासखंड के मुरता गांव के श्री शीतल साहू से मोबाइल पर उनकी बेटी मानसी साहू के स्वास्थ्य की जानकारी ली। मानसी जब छह माह की थी, तब उनके हृदय का ऑपरेशन किया गया था। अभी मानसी तीन वर्ष की हो गई है। श्री शीतल साहू और उनकी धर्मपत्नी दोनों ही रोजी-मजूरी का काम करते हैं। श्री शीतल साहू ने मुख्यमंत्री को बताया कि ऑपरेशन के बाद मानसी सामान्य बच्चों की तरह स्वस्थ है। अगले साल से वे मानसी को स्कूल पढ़ने भेजेंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहा कि राज्य सरकार की योजना से उनके छोटे से परिवार में खुशियां लौट आयी हैं।
मुख्यमंत्री ने सूरजपुर जिले के प्रतापपुर विकासखंड के गांव गोरखपुर बस्ती कलारी निवासी श्री श्याम बिहारी को फोन लगाकर उनके बेटे आशुतोष के स्वास्थ्य का हालचाल पूछा। आशुतोष जब चार वर्ष का था, तब उसका ऑपरेशन श्री बालाजी अस्पताल में हुआ था। वर्तमान में आशुतोष 12 साल का हो गया है और पूरी तरह स्वस्थ है। श्री श्याम बिहारी 10वी बटालियन सिलफिली में कांस्टेबल के पद पर कार्यरत हैं। मुख्यमंत्री ने श्री श्याम बिहारी से आशुतोष को पढ़ा-लिखाकर अफसर बनाने कहा।
बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर के मोहम्मद मईम खान ने मुख्यमंत्री को मोबाईल पर बताया कि उनकी बेटी आफरीन निशा के हृदय का सफल ऑपरेशन दो वर्ष पहले रायपुर के एस्कार्ट अस्पताल में हुआ था। तब आफरीन दो वर्ष की थी। ऑपरेशन के बाद अब वह पूरी तरह स्वस्थ है। अगले वर्ष से वे आफरीन को स्कूल भेजेंगे। आफरीन के पिता छोटे ठेकेदार हैं, जो घरों में प्लास्टर ऑफ पेरिस का काम करते हैं। आफरीन की मां मुख्यमंत्री से बातचीत के दौरान भावुक हो गई। उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा कि आपने मेरी बेटी को अच्छा कर दिया। उसे अपना आशीर्वाद दीजिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका आशीर्वाद हमेशा आफरीन के साथ है। आफरीन की पढ़ाई लिखाई पर ध्यान दें और सामान्य बच्चों की तरह ही खेलने-कूदने दें। आफरीन के माता-पिता ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट किया।