रायपुर : रायपुर में प्रदूषण रोकने कड़ाई के निर्देश

राज्य सरकार ने राजधानी रायपुर में प्रदूषण की समस्या को गंभीरता से लिया है।  मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड ने इस सिलसिले में आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल सहित सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों की बैठक ली और उन्हें पर्यावरण नियमों का उल्लंघन करने वाले उद्योगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। पर्यावरण संरक्षण मंडल की बैठक में उन्होंने अधिकारियों को रायपुर शहर के आस-पास उरला, बोरझरा एवं सिलतरा औद्योगिक क्षेत्रों में संचालित उद्योगों में प्रदूषण नियंत्रण उपकरणों के नियमित उपयोग तथा इन उपकरणों की नियमित जांच सुनिश्चित करने का भी आदेश दिया। मुख्य सचिव ने स्पंज आयरन संयंत्र, बिजली संयंत्रों, रोलिंग मिलों, इंडक्शन फर्नेस इकाईयों और फेरो-एलाइज संयंत्रों में लगातार दबिश देने और उनमें प्रदूषण नियंत्रण उपायों का सख्ती से पालन करवाने के लिए कहा।
पर्यावरण संरक्षण मंडल के अध्यक्ष श्री अमन कुमार सिंह ने बैठक में बताया कि रायपुर के आसपास स्थापित 20 स्पंज आयरन संयंत्रों एवं दो पॉवर प्लांटों में ऑनलाइन चिमनी उत्सर्जन मापन की व्यवस्था है। बोर्ड द्वारा इन इकाईयों की चिमनियों की रियल टाइम मॉनिटरिंग की जा रही है। उन्होंने बताया कि ऑनलाइन चिमनी उत्सर्जन मापन यंत्र नहीं लगाने वाले 22 उद्योगों पर बोर्ड द्वारा कड़ी कार्रवाई की जा रही है। शहर को प्रदूषण से बचाने वहां नए उद्योगों को प्रतिबंधित करने और बड़े उद्योगों को अन्यत्र स्थानांतरित करने की कार्यवाही की जा रही है।
मुख्य सचिव ने बैठक में परिवहन विभाग को वाहनों द्वारा हो रहे प्रदूषण की जांच करने और दो पहिया एवं चार पहिया वाहनों को पर्यावरण की दृष्टि से फिटनेस प्रमाण पत्र जारी करने की कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने रायपुर नगर निगम को निर्माण कार्यों और कचरों से होने वाले प्रदूषण को रोकने प्रभावी कदम उठाने कहा। मुख्य सचिव ने निर्माण स्थलों के चारों ओर अस्थायी घेरे का निर्माण, निर्माण सामग्रियों के लोडिंग एवं अनलोडिंग के दौरान उड़ने वाली धूल पर नियंत्रण, पुराने भवनों को तोड़ने के दौरान उड़ने वाली धूल पर नियंत्रण तथा मलबों का सुव्यवस्थित अपवहन (क्पेचवेंस) बिल्डरों और निर्माण एजेंसियों के लिए अनिवार्य करने कहा।
बैठक में मुख्य सचिव ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से कहा कि वे शहरी क्षेत्रों में बनने वाले सड़कों एवं नालियों के बीच पेवर ब्लॉक्स से पिंचिंग अवश्य कराएं, ताकि किनारों की धूल को वातावरण में उड़ने से रोका जा सके। उन्होंने शहर में खुली जगहों पर सघन वृक्षारोपण करने के भी निर्देश दिए। बैठक में आवास एवं पर्यावरण विभाग के सचिव श्री संजय शुक्ला, उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के सचिव श्री सुबोध सिंह, संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास डॉ. रोहित यादव, रायपुर के कलेक्टर ठाकुर राम सिंह, रायपुर नगर निगम के आयुक्त डॉ. सारांश मित्तर, अतिरिक्त परिवहन आयुक्त श्री ओ.पी. पाल, छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक श्री अंकित आनंद, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री सुनील मिश्रा एवं पर्यावरण संरक्षण मंडल के सदस्य-सचिव श्री देवेन्द्र सिंह सहित बोर्ड के सदस्य मौजूद थे।

Leave a Reply