राहुल गांधी ने नेताओं से कहा राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बननी चाहिए। विवाद की कोई गुंजाइश नहीं।

22 फरवरी को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में अपने सरकारी आवास पर राजस्थान के दिग्गज कांग्रेस नेताओं की एक बैठक की। इस बैठक में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट, पूर्व सीएम अशोक गहलोत, प्रदेश के प्रभारी अविनाश राय, पूर्व मंत्री भंवर जितेन्द्र सिंह, विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता रामेश्वर डूडी उपस्थित रहे। इस बैठक में राहुल गांधी ने दो टूक शब्दों में नेताओं को कहा कि आपस में कोई विवाद बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। कोई भी नेता सार्वजनिक तौर पर ऐसा बयान नादे, जिससे विवाद की कोई बात सामने आती हो। हाल ही के उपचुनावों जिस तरह कांग्रेस को एकतरफा सफलता मिली है। उससे साफ जाहिर है कि राजस्थान में मतदाता कांग्रेस की सरकार बनवाना चाहते हैं। अब यह हम सब पर निर्भर करता है कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बने। राहुल ने कहा कि जिस प्रकार उपचुनाव में कांग्रेस का निचले स्तर का कार्यकर्ता सक्रिय रहा। उसी प्रकार प्रदेशीार में कार्यकर्ता को सक्रिय करने की जरूरत है। यदि हमने कार्यकर्ताओं को सक्रिय कर दिया तो नवम्बर में होने वाले विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस को ही बहुमत मिलेगा। बैठक में राहुल गांधी ने अशोक गहलोत और सचिन पायलट को भी यह संकेत दिए कि मुख्यमंत्री को लेकर कोई बयानबाजी नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री कांग्रेस की परम्परा के अनुरूप ही बनेगा। विधानसभा का चुनाव सामूहिक नेतृत्व पर ही लड़ा जाएगा। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष पायलट ने संगठन की गतिविधियों से भी राहुल गांधी को अवगत कराा। माना जा रहा है कि नवम्बर में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर 22 फरवरी की बैठक महत्वपूर्ण रही। इस बैठक में आने वाले दिनों में कांग्रेस के कार्यक्रमों का खाका भी तैयार किया गया।
(एस.पी.मित्तल)