रोक के बावजूद जिग्नेश ने की हुंकार रैली…..

दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने रोक के बावजूद हुंकार रैली करने में कामयाब हो गए है | बता दे की इससे पूर्व एनजीटी के लगे हुए कड़े प्रतिबन्ध के बावजूत उन्होंने यह आयोजन किया चलिए आपको बताते है पूरी खबर  दिल्ली पुलिस की रोक के बाद भी गुजरात के वडगाम से विधायक दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और उनके समर्थक युवा हुंकार रैली करने में सफल रहे।  रैली में प्रशांत भूषण,  उमर खालिद, शैहला राशिद, अखिल गोगाई, बीएचयू, इलाहाबाद व लखनऊ यूनिवर्सिटी के  कई छात्र शामिल हुए।

संसद मार्ग थाने के बाहर पुलिस की रोक के बाद भी जेएनयू छात्रों समेत भीम आर्मी ने बाकायदा टेंट लगाते हुए रैली की। हालांकि रैली में भीड़ उतनी नहीं थी, जितनी उम्मीद की जा रही थी। इस दौरान आयोजन स्थल और आसपास के क्षेत्रों में भारी पुलिस बल की मौजूदगी रही। अधिकारी आखिरी समय तक यही कहते रहे कि मेवाणी और उनके समर्थकों को कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति नहीं है। लेकिन ऐसा लगता है कि रैली आयोजनकर्ताओं और दिल्ली पुलिस के बीच बाद में समझौता हो गया।

दिल्ली में मेवाणी की रैली में मामूली भीड़ ही जुटी थी, रैली के लिए लगाई गई ज्यादातर कुर्सियां खाली पड़ी रहीं। महज 200 से 300 समर्थक ही रैली में पहुंचे थे। जबकि   इस रैली में भरी संख्या में  भीड़ उमड़ने का अनुमान लगाया जा रहा था lरैली का उद्देश्य  शैक्षिक अधिकार, रोजगार, आजीविका और लैंगिक न्याय जैसे मुद्दों पर जोर देना है।