लालू ने कहा, इस्‍तीफा नहीं देंगे तेजस्‍वी; JDU ने कहा ’80 MLA का घमंड न दिखाए RJD’

पटना : बिहार सरकार के महागठबंधन में राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवार को लेकर बनी ‘गांठ’ भ्रष्टाचार के मामले में फंसे उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद के इस्तीफे को लेकर और सख्त हो गई है. इस बीच RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने मीडिया से बात करते हुए साफ कह दिया कि तेजस्‍वी इस्‍तीफा नहीं देंगे. लालू ले कहा कि सीबीआई की एफआईआर तेजस्वी के इस्तीफे का वाजिब कारण नहीं बनता. जहां तक मेरी और मेरे बच्चों की संपत्तियों का सवाल है, तो उसकी सारी जानकारी पब्लिक डोमेन में हैं.

ये भी पढ़ें : VIDEO: सवाल पूछने पर भड़के तेजस्‍वी यादव, सुरक्षाकर्मियों ने पत्रकार को पीटा

तथ्यों के साथ स्पष्टीकरण दें

वहीं शुक्रवार को जदयू की तरफ से कहा गया है कि राजद अपने 80 विधायक होने का घमंड न दिखाए, बल्कि पार्टी के मंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ आरोपों पर तथ्यों के साथ स्पष्टीकरण दें. हालांकि इस मुद्दे को लेकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और जनता दल (युनाइटेड) के बीच खिची तलवार को किसी भी दल ने फिर से म्यान में रखने की कोशिश अब तक नहीं की है. वैसे, दोनों दल अपने बयानों से सियासी दांव-पेच भी आजमा रहे हैं.

ये भी पढ़ें : मोदी की भाजपा नीत एनडीए से हाथ मिला सकते हैं नीतीश!

मामला वर्ष 2004 का

तेजस्वी के खिलाफ मामला वर्ष 2004 का है, जब वह 14 वर्ष के थे और उनके पिता देश के रेलमंत्री थे. आरोप है कि उन्होंने रेलवे के दो होटल बनवाने का लाइसेंस एक निजी कंपनी को दिलाया और उसके एवज में उन्हें पटना में तीन एकड़ जमीन दी गई. जद (यू) जहां भ्रष्टाचार पर ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति को ही सियासी थाती कहकर इसे पार्टी की मूल पूंजी बताकर राजद पर निशाना साध रही है, वहीं राजद संख्याबल को लेकर जद (यू) पर निशाना साध रही है.

नीतीश कुमार की छवि बेदाग रही है

जद (यू) के प्रवक्ता नीरज कुमार कहते हैं, “नैतिकता और भ्रष्टाचार को लेकर जीरो टॉलरेंस की नीति की बदौलत पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार की छवि बेदाग रही है. इसे लेकर कोई समझौता नहीं किया जा सकता.” उन्होंने स्पष्ट कहा कि जद (यू) अपने सहयोगी दल से केवल भ्रष्टाचार के लगाए गए आरोपों का ही तो जावाब मांग रही है. ऐसे में संख्याबल के ‘बब्बर शेर’ का भय दिखाना सही नहीं है. नीतीश के चेहरे पर ही महागठबंधन को जनादेश प्राप्त हुआ है.

ये भी पढ़ें : तेजस्वी की कुर्सी पर मंडरा रहे खतरे से कांग्रेस की इसलिए फूल रही हैं सांसें…

वैसे देखा जाए, तो नीतीश की राजनीतिक छवि अभी तक बेदाग रही है, जबकि राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद के राजनीतिक फैसलों में उनका परिवार ही सर्वोपरि रहा है. नीतीश ने पूर्व में जीतन राम मांझी और रामानंद सिंह से लिए इस्तीफे के साथ गैसल रेल दुर्घटना पर खुद के दिए इस्तीफे का उदाहरण भी रखा है.

राजनीति में कुछ भी संभव

राजनीति के जानकार और पटना के वरिष्ठ पत्रकार सुरेंद्र किशोर भी मानते हैं कि सत्ताधारी महागठबंधन में ‘गांठ’ अब और मजबूत हो गई है, लेकिन राजनीति में कुछ भी संभव है. उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि आज की परिस्थिति में सभी की निगाहें नीतीश कुमार पर टिकी हुई हैं. उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में महागठबंधन के घटक दलों के कई नेता महागठबंधन को अटूट मान रहे हैं, लेकिन हालात काफी नाजुक दौर में पहुंच गए हैं.

नीतीश की छवि को भुनाने की कोशिश

किशोर कहते हैं कि महागठबंधन में शामिल दल भले ही एक-दूसरे पर बयानबाजी कर रहे हैं, लेकिन इसमें भी सियासी दांव खेला जा रहा है. जद (यू) नीतीश कुमार की स्वच्छ छवि को भुनाने की कोशिश में है, जबकि राजद आम-अवाम और संख्याबल का हवाला देकर सहयोगी दल को अपना ‘वोट बैंक’ दिखा रहा है.

ऐसे में अब दोनों दलों के तेवर सख्त होते जा रहे हैं. तेजस्वी से जनता के समक्ष तथ्यात्मक जवाब देने की मांग कर चुके जद (यू) के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने तेजस्वी को राजधर्म की याद दिलाते हुए दो टूक कहा है कि उन पर फैसला तो होना ही है. जद (यू) के प्रवक्ता नीरज ने शुक्रवार को कठोर लहजे में कहा कि सीबीआई ने जो आरोप लगाए हैं, उसका जवाब दिया जाना चाहिए.

12 स्थानों पर छापेमारी की थी

उधर, राजद के विधायक भाई वीरेंद्र ने गुरुवार को जद (यू) से दो टूक कहा था कि उनकी पार्टी के पास 80 विधायक हैं और पार्टी जो चाहेगी वही होगा. किसी के कह देने से तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे. उल्लेखनीय है कि सीबीआई ने पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद और बिहार के उपमुख्यमंत्री एवं उनके बेटे तेजस्वी यादव सहित उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है. सीबीआई ने बीते शुक्रवार को पटना सहित देशभर के 12 स्थानों पर छापेमारी की थी.

भ्रष्टाचार के मामले में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद जद (यू), मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बेदाग छवि को लेकर तेजस्वी पर इस्तीफे के लिए दबाव बना रही है. महागठबंधन में राजद, कांग्रेस और जद (यू) शामिल हैं, जिसका नेतृत्व नीतीश कुमार कर रहे हैं. इस बीच खबर आई है कि नीतीश ने इस विवाद में कांग्रेस से मध्यस्थता करने को कहा, मगर उसने इनकार कर दिया है.