लड़कियों का आत्मबल बढ़ाने की अनूठी मुहिम, बिलासपुर पुलिस ने बनाया ऐसा विश्व रिकॉर्ड

बिलासपुर। समाज में लड़कियों को सुरक्षित माहौल प्रदान करने और उनके अंदर एक भरोसा जगाने के मकसद से छत्तीसगढ़ में बिलासपुर पुलिस ने पिछले दिनों एक मुहिम चलाई थी। ‘राखी विद खाखी” नाम की यह मुहिम रक्षाबंधन के त्योहार के दौरान चलाई गई थी। ‘राखी विद खाखी” नाम की इस मुहिम के तहत बिलासपुर शहर की बहुत लड़कियों ने 50 हजार 33 जवानों को राखी बांधी थी। अब यह मुहिम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गई है।

पिछली 25 अगस्त से शुरू हुई इस मुहिम के तहत लड़कियों ने पुलिस के जवानों को अपना भाई मानते हुए उनकी कलाई पर राखी बांधी और इस पल की तस्वीर बिलासपुर पुलिस के सोशल मीडिया पेज पर शेयर की। देखते -देखते पेज पर हजारों तस्वीरें दिखाई देने लगीं।

इस मुहिम का मकसद था पुलिस के प्रति लड़कियों में भाई जैसा भरोसा बनाना, ताकि किसी भी प्रकार की ब्लैकमेलिंग या किसी अन्य घटना में लड़कियां बिना घबराए पुलिस की मदद ले सकें। इस मुहिम को पूरी देश में सराहना मिली थी।

अब गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ने भी इसे अपनी तरह की अनूठी मुहिम मानते हुए अपनी मुहर लगाई है। शनिवार को बिलासपुर पुलिस की मुहिम ‘राखी विथ खाखी” के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की तरफ से सर्टिफिकेट प्रदान कर रहा है। बिलासपुर पुलिस के सम्मान में इस समारोह का आयोजन स्व.लखीराम अग्रवाल स्मृति ऑडिटोरियम में किया जा रहा है। कार्यक्रम के दौरान यूएनडीपी के इंडिया हेड प्रभतेज सोढ़ी पुलिस अधीक्षक आरिफ एच शेख को सर्टीफिकेट प्रदान करेंगे।

ऐसी है यह अनूठी मुहिम

बिलासपुर पुलिस ने 25 अगस्त को ‘राखी विथ खाकी” की मुहिम शुरू की थी। इसका उद्देश्य घर से दूर रहकर 24 घंटे सामाजिक सुरक्षा व शांति बहाल करने में तैनात रहने वाले पुलिसकर्मियों के लिए रक्षाबंधन के पर्व को खास बनाना था। इस मुहिम से जुड़कर 50 हजार 33 जवानों को राखी बांधकर महिलाओं, युवतियों और छात्राओं ने सेल्फी लेकर सोशल मीडिया में अपलोड कर रिकॉर्ड बनाया था। जो गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ है।