शाजापुर में पांच मीटर तक गिरा जलस्तर, अधिकांश हैंडपंप सूखे से हुए बंद |

शाजापुर जिले में लगातार तीन साल से जलस्तर घट रहा है। कुछ इलाकों में गिरावट 5 मीटर तक है। इससे लगभग 300 हैंडपंप सूख चुके हैं| जिससे आने वाले दिनों में भारी जल संकट की स्तिथि उत्पन्न हो सकती हे
भू जल स्तर गिरने का मुख्य कारण अनियमित बारिश, किसानों द्वारा निजी जल स्रोतों का दोहन आदि है। इसकी वजह से ही हैंडपंप बंद हो रहे हैं। पिछली हुई बैठकों में शाजापुर, बड़ोदिया, शुजालपुर, कालापीपल, गुलाना,पोलापकला और अवंतीपुर को सूखाग्रस्त माना है। बारिश कम होने के बावजूद जिस तेजी से भू-जल दोहन हो रहा है उससे अभी से चिंता सताने लगी है। दोहन का यही हाल रहा तो फरवरी तक सभी  जिले में पानी का संकट खड़ा हो सकता है। इस बात की पुष्टि स्थायी अवलोकन कूप से ली गई रीडिंग से हुई है।