शाहरुख की ‘नासमझी से मरा’ ये एक्टर सालों तक रहा गुमनाम, अब चला रहा है होटल

शरद कपूर बॉलीवुड के मल्टी-टेलेंटेड स्टार्स में से एक रहे हैं। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर की थी लेकिन किस्मत उन्हें एक्टिंग में ले आई।
हीरो बनने के बाद उन्होंने कई फिल्मों में काम किया जिनमे ‘क्योंकि मैं झूठ नहीं बोलता’, ‘ये है जलवा’, ‘कुछ तुम कहो कुछ हम कहें’, ‘जानी दुश्मन’, ‘हथियार’ ‘एलओसी कारगिल’ और ‘जोश’ जैसी कई फिल्मों में काम किया।
इनमें से ज्यादातर फिल्मों में शरद कपूर का किरदार एक सपोर्टिंग एक्टर का ही रहा। अपने दो दशक के करियर में शरद कपूर ने वैसे तो दर्जनों फिल्मों में काम किया लेकिन बेहतरीन परफॉर्मेंस के तौर पर सिर्फ ‘जोश’ ही याद आती है।
इस फिल्म में शरद कपूर एक विलेन के किरदार में थे जिसके लिए उन्हें फिल्मफेयर के बेस्ट विलेन अवॉर्ड से भी नवाजा गया…लेकिन इस फिल्म की सफलता का शरद कपूर और उनके करियर पर कोई खास असर नहीं पड़ा। इसके बाद भी फिल्मों में उनका संघर्ष जारी रहा।
फिल्में तो शरद को मिलती रहीं लेकिन उनमें उनके रोल को कोई खास तवज्जो नहीं दी गई और ये संघर्ष तब तक चलता रहा जब तक सलमान खान की नजर उन पर नहीं पड़ी।
2014 में सलमान ने उन्हें अपनी फिल्म ‘जय हो’ में काम दिया। ये फिल्म मल्टीस्टारर थी और इसमें भी शरद कपूर छोटे से रोल की आड़ भी छिपे रह गए।

Leave a Reply