शिवसेना का भाजपा को संदेश, फिल्म अभी बाकी है

मुंबई। एक दिन पहले बुधवार को मातोश्री में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मेजबानी करने वाले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भगवा गठबंधन की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। शिवसेना प्रमुख ने जो संकेत दिया है उससे जाहिर होता है कि दोनों दलों के बीच सबकुछ ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि दोनों दलों के बीच जो कुछ दिख रहा है वह केवल झलक भर है। पूरी फिल्म अभी बाकी है।

उद्धव गुरुवार को पालघर में रैली को संबोधित करने पहुंचे थे। हाल ही में लोकसभा उपचुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर देने में शिवसेना की मदद करने के लिए उन्होंने मतदाताओं के प्रति आभार जताया। ढाई लाख से ज्यादा मत लेने के बाद भी शिवसेना इस सीट पर दूसरे स्थान पर रही। उन्होंने इसे पराजय मानने से इनकार कर दिया। लेकिन चुनाव प्रक्रिया पर संदेह जताया।

उन्होंने सवाल किया कि यदि गर्मी के कारण ईवीएम ने काम करना बंद कर दिया तो आपने उसकी जांच क्या की? मतदाताओं के नाम गायब थे। बोगस वोटिंग हुई और मशीन काम नहीं कर रही थी। लोगों ने मतदाताओं के बीच पैसे बांटते पकड़ा। क्या इसे ही आप लोकतंत्र कहते हैं? पालघर में शिवसेना प्रत्याशी श्रीनिवास वांगा ने भाजपा के पैसे को टक्कर दी। करीब छह लाख मतदाताओं वाले पालघर में श्रीनिवास को 2.50 लाख मत मिले। वास्तव में एक आदिवासी युवक के हाथों यह भाजपा की पराजय है।

उन्होंने अगले लोकसभा चुनाव के लिए श्रीनिवास को पालघर का प्रत्याशी घोषित किया।इससे पहले शिवसेना के प्रवक्ता और सांसद संजय राउत ने भी गुरुवार को कहा कि शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने एक प्रस्ताव पारित किया है। पार्टी ने आने वाले सभी चुनाव अकेले लड़ने का फैसला लिया है। इस प्रस्ताव को कोई बाहरी नहीं बदल सकता है।