संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में टॉयलेट के पानी से पका रहे थे खाना, 10 हजार का जुर्माना

बिलासपुर।निजामुद्दीन-दुर्ग छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में खाना बाथरूम के नल से पानी लेकर बनाया जा रहा था। अचानक जांच करने पर मामला सामने आया तो 10 हजार रुपए का जुर्माना किया गया। इसके अलावा पेंट्रीकार में बिना तारीख वाले ब्रेड के पैकेट मिले जिसे उतरवा लिया गया।
– ट्रेनों में मिलने वाले घटिया भोजन को लेकर रेलवे प्रशासन चिंतित है। खानपान की व्यवस्था सुधारने रेलवे बाेर्ड ने 21 दिन का स्पेशल अभियान चलाया। अब फिर से मनमानी शुरू हो गई। बिलासपुर जोन की ट्रेनों का तो मामला ही उल्टा है।
– रविवार को निजामुद्दीन से दुर्ग जाने वाली छत्तीसगढ़ संपर्कक्रांति एक्सप्रेस दिन में 11 बजे के लगभग बिलासपुर पहुंची। ट्रेन के पहुंचते ही आईआरसीटीसी के स्थानीय प्रबंधक राजेंद्र बोरबन और उनकी टीम पेंट्रीकार की जांच करने पहुंच गए। पेंट्रीकार में घुसे तो देखा कि बाथरूम के नल से पाइप लगातार खाना पकाने के लिए पानी लिया जा रहा है।
– पानी के जार की तलाश की तो कुछ जार मिले जो खाली थे। यानि ट्रेन के बाथरूम में उपयोग होने वाले पानी का इस्तेमाल ही पेंट्रीकार का संचालक खाना पकाने में कर रहा था। जांच के दौरान ब्रेड के पैकेट दिखाई दिए। उन्हें उठाकर देखा तो उसमें उत्पादन की तिथि ही अंकित नहीं थी। पूछताछ करने पर मैनेजर कोई जवाब नहीं दे पाया।
– इधर- उधर बात टालने की कोशिश करने लगा। इस पर बोरबन ने उस पर 10 हजार रुपए का जुर्माना किया। पहले भी अफसरों ने कई बार पेंट्रीकार संचालकों को चेतावनी है। इसके बावजूद वे सुधरने को तैयार नहीं है। नतीजा उनके खिलाफ कार्रवाई जारी है। हैरानी ये कि अफसरों की चेतावनी के बाद वे सुधरने को क्यों तैयार नहीं है, इस बात पर सवाल है।
अब तक एक लाख जुर्माना
छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की पेंट्रीकार का ठेका कोलकाता की न्यू क्लासिक केटरर के पास है। लगातार छह महीने से पेंट्रीकार में गड़बड़ी पर कार्रवाई की जा रही है। इसका ठेका आईआरसीटीसी ने किया है, इसलिए आईआरसीटीसी ही कार्रवाई कर रहा है। बिलासपुर से जो जुर्माना किया गया उसमें 29 जून को 5 हजार रुपए, 17 अगस्त को 5 हजार रुपए, 13 सितंबर को 10 हजार रुपए और 29 अक्टूबर को 10 हजार रुपए का जुर्माना किया गया। इससे पहले भी जुर्माना मिलाकर अब तक 1 लाख रुपए का जुर्माना इस पर लगाया जा चुका है।
ब्लैक लिस्टेड करने की तैयारी
छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में लगातार शिकायतों के बाद कार्रवाई की जा रही है। उसके बाद भी उसे कोई असर नहीं हो रहा है।
पेंट्रीकार के बदले गए नियम
बिलासपुर से चेन्नई जाने वाली चेन्नई एक्सप्रेस की पेंट्रीकार का ठेका बदल गया है। साउथ की कंपनी क्यून इंडिया ने ठेका लिया है। कंपनी ने पेंट्रीकार की रौनक ही बदल दी है। बिलासपुर जोन के किसी भी ट्रेन में इस तरह की व्यवस्था नहीं है। रविवार को बिलासपुर से चेन्नई के लिए रवाना हुई चेन्नई एक्सप्रेस के यात्रियों को पेंट्रीकार की व्यवस्था में खासा बदलाव नजर आया होगा। साउथ की ट्रेनों में काम कर चुकी कंपनी ने पहली बार एसईसीआर की किसी ट्रेन की पेंट्रीकार का ठेका लिया है। चाय के कंटेनर के बाहरी हिस्से पर रेट लिखा हुआ। खाने की प्रत्येक प्लेट पर स्टीकर लगा होगा। हर कोच में मैन्यू कार्ड देने की व्यवस्था रखी गई है।