सड़क के गड्ढे से मर्चेंट नेवी अफसर गिरा, पत्नी ने ठेकेदार पर कराया केस

सड़क पर खोदे गए गड्ढे के कारण मर्चेंट नेवी में पदस्थ अफसर की बाइक अनियंत्रित होकर गिर गई। सिर में गंभीर चोट लगने के कारण उसे अभी भी होश नहीं आया है। इस मामले में अफसर की पत्नी ने नगर निगम के ठेकेदार के खिलाफ केस दर्ज कराया है। घटना कोलार थाने के सामने मंगलवार शाम को हुई।

कोलार पुलिस के मुताबिक 24,डीके हनी होम्स में जॉय तिर्की पत्नी अलका तिर्की के साथ रहते हैं। तिर्की दंपति का बीमा कुंज के पास शेफ्स कार्नर नाम से रेस्टोरेंट है। जॉय मर्चेंट नेवी में अफसर हैं।अवकाश के कारण इन दिनों घर आए हुए हैं। उनकी पत्नी पहले एक स्कूल में पढ़ती थी,लेकिन अब वह अपने रेस्टोरेंट संभालती हैं। मंगलवार शाम को जॉय रेस्टोरेंट से घर जाने के लिए अपनी बाइक से निकले थे। शाम करीब 7 बजे वह कोलार थाने के पास पहुंचे,तभी बीच सड़क पर खोदे गए गड्ढे के कारण उनकी बाइक अनियंत्रित हो गई। इससे वह बाइक से गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गए।

जिस समय हादसा हुआ जॉय की पत्नी घर से रेस्टोरेंट जाने के लिए निकली थीं। रास्ते में भीड़ देखकर वह रुक गईं। पति की गंभीर हालत देखकर वह घबरा गईं। वह उन्हें 108 एम्बुलेंस से लेकर नर्मदा ट्रॉमा सेंटर पहुंची। वहां जॉय को आईसीयू में भर्ती कर लिया गया है। अलका तिर्की ने बताया कि उनके पति को बुधवार शाम तक होश नहीं आया है। पुलिस ने अलका तिर्की की शिकायत पर नगर निगम के ठेकेदार के खिलाफ धारा-279,288,431 के तहत केस दर्ज कर लिया है।

गड्ढा अभी भी है, पुलिस ने रखवाया बेरीकेड

अलका तिर्की ने बताया कि घटना के बाद दूसरे दिन भी गड्ढा नहीं भरा गया है। इस मामले में उन्होंने सीएसपी भूपेंद्रसिंह से चर्चा की। उनके निर्देश पर नगर निगम के ठेकेदार के खिलाफ केस दर्ज किया है। जिस गड्ढे की वजह से हादसा हुआ वह 75 इंच लंबा,35 इंच चौड़ा और 36 इंच गहरा है। फिर हादसा न हो जाए। इसलिए पुलिस ने गड्ढे के पास बेरीकेड रख दिया है।

क्या है धारा 288,431

किसी भी निर्माण कार्य के दौरान इस तरह की लापरवाही करना जिससे किसी का जीवन संकट में पड़ सकता है। इस तरह के मामले में धारा 288 के तहत कार्रवाई का प्रावधान है। इसी तरह किसी भी मार्ग को बिना कोई पूर्व सूचना के खंडित करना। जिससे आम यातायात प्रभावित हो और हासदे की आशंका बढ़ जाए। ऐसी स्थिति में धारा-431 के तहत र्कावाई का प्रावधान है।

अफसरों की लापरवाही की जांच भी होगी

सीएसपी हबीबगंज भूपेंद्रसिंह ने बताया कि इस मामले की विवेचना के दौरान ठेकेदार के अलावा उन अफसरों की भूमिका की भी जांच होगी,जिन्होंने इस निर्माण कार्य के दौरान ठेकेदार की लापरवाही को नजरअंदाज किया। साथ ही इस तरह के हासदे में पीड़ित पक्ष की शिकायत मिलते ही दोषी ऐजेंसियों के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई की जाएगी।