सावन सोमवार का व्रत : खाने-पीने का रखें विशेष ध्यान

नई दिल्ली : पुराणों और शास्त्रों के अनुसार सोमवार के व्रत तीन तरह के होते हैं. सावन सोमवार, सोलह सोमवार और सोम प्रदोष. सोमवार व्रत की विधि सभी व्रतों में समान होती है. इस व्रत को श्रावण माह में आरंभ करना शुभ माना जाता है. श्रावण सोमवार के व्रत में भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा की जाती है.

श्रावण सोमवार व्रत सूर्योदय से प्रारंभ कर तीसरे पहर तक किया जाता है. शिव पूजा के बाद सोमवार व्रत की कथा सुननी आवश्यक है. व्रत करने वाले को दिन में एक बार भोजन करना चाहिए वह भी सूर्यास्त के बाद. इस व्रत में खाने को लेकर सावधानी बरतनी जरूरी होती है.

खाने में इन चीजों का रखें ध्यान
1. 
आमतौर पर लोग सूर्यास्त के बाद सिर्फ एक शाम का ही भोजन करते हैं. लेकिन बहुत सारे लोग जो व्रती होते हैं वह दिन में कई बार फल और फलों का जूस आदि लेते हैं ताकि शरीर में ऊर्जा बनी रहे.

2. व्रत के दौरान 500 से 750 मिलीलीटर दूध या दही और 30 से 50 ग्राम पनीर या चना जरूर ग्रहण करना चाहिए.

3. आप चाहें तो मूंगफली, मखाना आदि भी ले सकते हैं. इसके अलावा दिनभर में 7-8 ग्लास पानी जरूर पीयें.

4. इसके अलावा स्वास्थ्यवर्द्धक सिंघाड़ा, चटपटा फलाहारी उपमा, साबूदाने की शाही खीर या फिर चटपटी भुजिया सेव का भी सेवन व्रत के दौरान कर सकते हैं.

उमड़ रहा भक्तों का सैलाब
देशभर के शिव मंदिरों और शिवालयों में सुबह से ही जलाभिषेक हो रहे हैं. जिस लोगों के लिए संभव है वे देश भर के ज्योर्तिलिंगों में जाकर भगवान भोले के दर्शन का लाभ ले रहे हैं. हालांकि सभी लोगों के लिए ज्योर्तिलिंगों के पास पहुंचना मुश्किल है.

ऐसे लोगों के लिए हम उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर की विशेष आरती का वीडियो लेकर आए हैं. यानी आप घर बैठे सावन के पहले सोमवारी पर महाकालेश्वर मंदिर की आरती का आनंद लें. बाबा महाकाल के दर्शन घर बैठे करें.

मान्यता है कि भगवान शिव के दिन सच्चे मन से भोलेनाथ को फूल, भांग और प्रसाद चढ़ाने से वह खुश होते हैं और मनोकामना पूरी करते हैं. सावन के सोमवार के दिन पूजा तो हर कोई करता है कि, लेकिन पूजा के दौरान कुछ बातों का ध्यान आपको अवश्य रखना चाहिए. लेकिन पूजन के दौरान कुछ ऐसे उपाय है जिनसे भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं. यहां हम आपको बताएंगे भोलेनाथ के पूजन से जुड़े कुछ आसान उपाय जिनसे भगवान शिव आपकी मनोकामना अवश्य पूरी करेंगे