सिम्स से शिफ्ट होगा नर्सिंग हॉस्टल

सिम्स में एमबीबीएस छात्राओं के हॉस्टल में संचालित नर्सिंग हॉस्टल को दूसरी जगह शिफ्ट किया जाएगा। राज्य शासन ने एमबीबीएस की छात्राओं को हो रही दिक्कत को देखते हुए इसकी अनुमति दे दी है।

सिम्स में अध्ययनरत एमबीबीएस छात्राओं के गर्ल्स हॉस्टल में वैकिल्पक व्यवस्था के तहत नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं को भी हॉस्टल की सुविधा दी गई है। धीरे-धीरे नर्सिंग की छात्राओं की संख्या बढ़ती जा रही है। वर्तमान में लगभग 120 नर्सिंग छात्राएं हॉस्टल में रह रही हैं। इसकी वजह से सिम्स की छात्राओं को दिक्कत होने लगी है। एक कमरे में चार से पांच छात्राओं को रहना पड़ रहा है। इससे रहने-खाने व अध्यापन कार्य में दिक्कत होती है। छात्राओं ने इस समस्या से डीन को अवगत कराया था। तब सिम्स प्रबंधन ने राज्य शासन को पत्र लिखकर समस्या की जानकारी दी। अब राज्य शासन ने नर्सिंग हॉस्टल को दूसरे स्थान पर शिफ्ट करने का निर्देश दिया है। इसके लिए एक लाख रुपए महीना किराया में नया भवन लेने को कहा गया है। आदेश आने के बाद प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। आने वाले दिनों में नर्सिंग की छात्राओं को अलग हॉस्टल मिल जाएगा।

अभी तक मिले 40 आवेदन

नर्सिंग हॉस्टल के लिए भवन किराए पर देने अब तक 40 लोगों ने सिम्स प्रबंधन को आवेदन दिया है। अब प्रबंधन इन भवनों का अवलोकन कर रहा है। हॉस्टल के मापदंड पर खरा उतरने वाले भवन का चयन किया जाएगा। इसके बाद शिफ्टिंग की प्रक्रिया शुरू होगी।

एमबीबीएस की छात्राओं की समस्या को देखते हुए राज्य शासन ने नर्सिंग हॉस्टल को शिफ्ट करने की अनुमति दी है। इसके लिए मिले आवेदनों पर विचार किया जा रहा है। जल्द ही नर्सिंग की छात्रों का अपना अलग हॉस्टल मिल जाएगा।

डॉ. प्रवीण पात्रा

डीन, सिम्स