सुप्रीम कोर्ट ने इस दिवाली दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने इस दिवाली दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। कोर्ट के इस फैसले के बाद सोशल मीडिया से लेकर राजनीतिक गलियारों तक इसकी चर्चा हो रही है। त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत रॉय ने भी इस फैसले पर टिप्पणी की। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘कभी दही हांडी, आज पटाखा, कल को हो सकता है प्रदूषण का हवाला देकर मोमबत्ती और अवार्ड वापसी गैंग हिंदुओं की चिता जलाने पर भी याचिका डाल दे!’ ऑनलाइन मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने फोन पर बातचीत में बताया कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से हिंदू नाराज हैं। गौरतलब है कि पूर्व बीजेपी नेता और त्रिपुरा के गवर्नर तथागत राय अपने बयानों के कारण सुर्खियों में रहते हैं। इससे पहले उन्होंने रोहिंग्या मुस्लिमों को लेकर भी विवादित टिप्पणी की थी। वहीं सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद चर्चित लेखक चेतन भगत ने ट्वीट कर पूछा था कि पटाखों के बिना बच्चों के लिए दिवाली कैसी? चेतन ने यह सवाल भी उठाया कि हिंदुओं के त्योहारों के साथ ही ऐसा क्यों होता है? उन्होंने पूछा कि क्या बकरीद पर बकरे काटने और मुहर्रम पर खून बहाने के खिलाफ कदम उठाए जा रहे हैं? दिवाली पर पटाखों को बैन किया जाना ऐसा है जैसे क्रिसमस पर क्रिसमस ट्री और बकरीद पर बकरे को बैन कर दिया जाना।