हरियाणवी सिंगर हर्षिता की हत्या में शामिल जीजा से की पुलिस ने पूछ ताछ

सीआईए-तीन ने हर्षिता दहिया हत्याकांड में हर्षिता के जीजा दिनेश कराला से तीसरे दिन के रिमांड के दौरान पूछताछ की। सूत्रों के अनुसार दिनेश ने पहले तो हत्या की वारदात कराना कबूल लिया। पुलिस के दावों के अनुसार उसने कुछ बदमाशों का नाम भी बता दिया। लेकिन अब बदमाशों के बारे में बयान बदलने लगा है। बताया जा रहा है कि वह कभी हत्या करने वाले बदमाशों के नाम लेता है तो कभी कहता है कि हो सकता है उन्होंने आगे किसी से वारदात को अंजाम दिया है।

वहीं, दिनेश कराला द्वारा बताए गए आरोपियों की फोटो लेकर हर्षिता के साथ गाड़ी में सवार तीनों सहयोगियों से पहचान कराई तो उन्होंने भी पहचानने से इनकार कर दिया। इन सबके चलते पुलिस के पसीने छूट गए हैं। उधर, दिनेश का रविवार को चार दिन का पुलिस रिमांड पूरा हो रहा है। पुलिस आरोपी का दोबारा रिमांड लेने का प्रयास भी करेगी। पुलिस को दोबारा रिमांड मिल जाता है तो कुछ हासिल कर सकती है।

हत्या में गैंगस्टर गोगी और उसके शूटर कुलदीप का भी नाम 
पुलिस के अनुसार, दिनेश कराला ने गैंगस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी का नाम लिया है। वह अपने शार्प शूटर कुलदीप फज्जा के साथ हत्याएं करता है। पुलिस के अनुसार दिनेश व जितेंद्र की नजदीकियां हैं। गोगी जेल से फरार है। पुलिस ने उसे भगोड़ा घोषित किया है। सीआईए-थ्री ने ही गोगी को तीन मार्च 2016 को राक्सेड़ा से गिरफ्तार किया था। इसके बाद उसे दिल्ली व सोनीपत पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर ले गई थी। दिल्ली पुलिस 30 जुलाई को जितेंद्र गोगी को जींद पेशी पर ले जा रही थी। बदमाशों ने बहादुरगढ़ के पास पुलिस वैन को रुकवा लिया था और पुलिसकर्मियों की आंखों में मिर्ची पाउडर मारकर गोगी को छुड़वा लिया था।

कई जेलों और ठिकानों में गैंगस्टर और शूटरों से पूछताछ 
बताया जा रहा है कि जिला पुलिस की कई टीम हर्षिता हत्याकांड की जांच में जुटी है। पुलिस की एक टीम ने शनिवार को झज्जर और तिहाड़ के नजदीक एक जेल में बंद गैंगस्टर और शार्प शूटरों से पूछताछ की। उनको इन जेलों में कुछ सुराग मिले हैं। पुलिस अधिकारियों ने इनके आधार पर आरोपियों को जल्द ही गिरफ्तार करने का दावा किया है।

यह है मामला 
सोनीपत के गांव नाहरा-नाहरी निवासी हरियाणवी गायिका एवं डांसर हर्षिता दहिया (23) स्वतंत्र नगर नरेला, दिल्ली की मंगलवार को चमराड़ा व काकोदा के बीच गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह यहां परकिसान मिशन कार्यक्रम में आई हुई थी और अपनी आई-10 कार में अपने ड्राइवर दो अन्य सहयोगियों के साथ वापस जा रही थी। उनकी कार जैसे ही चमराड़ा गांव से काकोदा की तरफ चली तो पीछे से काले रंग की फोर्ड फिगो गाड़ी आई और उनकी गाड़ी के आगे अड़ा दी।

बदमाशों ने ड्राइवर, सहयोगी लड़के संजीव निवासी गुमड़ व निशा बल्लभगढ़ को नीचे उतार दिया और हर्षिता चौधरी को गाड़ी की पिछली सीट पर बैठे-बैठे गोली कनपटी व गर्दन में मार दी। हर्षिता चौधरी की मौके पर मौत हो गई। उसको पोस्टमार्टम रिपोर्ट में 10-12 गोली लगना सामने आया था। पुलिस ने इसके बाद उसके जीजा दिनेश कराला को झज्जर जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लिया था। दिनेश कराला ने हत्या कराने का आरोप कबूला था। पुलिस ने आरोपी को चार दिन के रिमांड पर लिया है।