17 साल की बालिका ने लगाई परिजनों की नाराज़गी की वजह से फांसी

पापा-मम्मी मैं आप लोगों से बहुत प्यार करती हूं, लेकिन आप लोग मुझसे बात नहीं करते हैं। इसलिए मैं आत्महत्या कर रही हूं। सुसाइड नोट में यह लिखने के बाद छात्रा माधुरी (17) ने फांसी लगाकर जान दे दी।

 

कानपुर के आवास विकास हंसपुरम रमन विहार निवासी वरमन एक प्राइवेट फैक्ट्री में नौकरी करते हैं। परिवार में पत्नी विनीता, बेटा शिवम हैं। बेटी माधुरी इलाके के एक स्कूल में इंटर में पढ़ती थी। बड़ी बेटी अंकिता की शादी हो चुकी है। भाई शिवम सब्जी का ठेला लगाता है और विनीता घरों में काम करती है। वरमन ने बताया कि शुक्रवार सुबह वह उनकी पत्नी और बेटा तीनों अपने काम पर चले गए। घर में माधुरी अकेली थी। तभी माधुरी ने दुपट्टे के सहारे पंखे से फांसी लगा ली। दोपहर में शिवम घर लौटा तो घटना का पता चला।

 

नौबस्ता थानाप्रभारी ने बताया कि माधुरी के कमरे से सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने खुदकुशी के लिए खुद को जिम्मेदार बताया है। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि परिजन माधुरी की किसी बात से नाराज थे। इसलिए उससे बातचीत नहीं करते थे। क्या बात थी अभी इसका पता नहीं चला है।