2जी स्‍पेक्‍ट्रम घोटाला पर सबसे बड़ा फैसला आज, पूर्व मंत्री ए.राजा और कनिमोझी दोषी….

आज भारत के सबसे बड़े घोटाले पर अदालत अपना फैसला सुनाने वाली है। आज दिल्ली का पटियाला हाउस कोर्ट यूपीए सरकार के दौरान हुए पौने दो लाख करोड़ के टूजी घोटाले पर फैसला सुनाएगा। इस घोटाले में कैबिनेट मंत्री रहे ए राजा समेत 24 लोगों पर आरोप है। ये घोटाला इतना बड़ा है कि इसे बयान करना मुश्किल हो जाता है| भारत के इस 17 खरब 60 अरब के घोटाले ने तत्कालीन यूपीए सरकार को हिला दिया था।

2जी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाले में सुबह 10.30 बजे बड़ा फैसला आ सकता है। इस मामले में मुख्य आरोपी पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और DMK सांसद कनिमोझी समेत कई लोगों पर पटियाला हाउस की स्पेशल सीबीआई कोर्ट बड़ा फैसला सुना सकती है।सीबीआई अदालत ने अक्तूबर 2011 में भारतीय दंड संहिता के तहत धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज बनाने व इस्तेमाल करने, सरकारी पद के दुरुपयोग, आपराधिक साजिश और भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम की धाराओं में आरोप तय किए थे।

इस मामले में दोषी पाए जाने पर आरोपियों को छह माह से लेकर उम्र कैद तक सजा हो सकती है। पेश मामले में एनजीओ टेलीकॉम वॉचडॉग ने लूप टेलीकॉम को स्पेक्ट्रम आवंटन में धांधली का आरोप लगाते हुये चार मई 2009 को केंद्रीय सतर्कता आयोग को शिकायत दी थी। फैसले के चलते ए राजा और कनिमोई के घर के बाहर हलचल बढ़ गई है वहीं ए राजा फैसले के लिए अपने निवास से पटियाला हाउस कोर्ट के लिए निकल गए हैं।
सीबीआई द्वारा पहला आरोप-पत्र दाखिल किए जाने के बाद 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले की सुनवाई छह साल पहले शुरू हुई थी। इससे संबंधित सभी मामलों की सुनवाई विशेष न्यायाधीश ओपी सैनी कर रहे हैं। 2011 में इस मामले में सीबीआई ने पहली गिरफ्तारी की थी। आपको बता दें कि देश का सबसे बड़ा और चर्चित घोटला यूपीए 2 के कार्यकाल के दौरान हुआ था। जिसने कांग्रेस सरकार के लिए बड़ी परेशानियां खड़ी कर दी थीं। दरअसल 2010 में CAG की एक रिपोर्ट आई थी जिसमें 2008 में बांटे गए स्पेक्ट्रम पर सवाल उठाये गए थे।