UP: सपा-बसपा गठबंधन? क्या 23 साल बाद एक बार फिर दलित-ओबीसी गठजोड़ बनेगा!

Exit Poll के नतीजों ने यूपी के सियासी गणित की गुत्‍थी सुलझाने के बजाय उलझा दिया है. ज्‍यादातर पोल ने यह तो दिखाया कि यूपी में बीजेपी के नंबर वन पार्टी बनने के आसार हैं लेकिन साथ ही ये आंकड़े बताते हैं कि वह बहुमत के जादुई आंकड़े तक शायद पूरी तरह से कामयाब नहीं हो पाए. बस यहीं से यूपी की सियासत के 360 डिग्री घूमने की सुगबुगाहट तेज हो गई है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि अखिलेश यादव ने कुछ इस तरह से संकेत दे दिए हैं कि यदि जरूरत पड़ी तो वह बीएसपी के साथ हाथ भी मिला सकते हैं. यानी एक दूसरे को ‘बुआ’ और ‘बबुआ’ कहने वाले अखिलेश यादव और मायावती एक दूसरे के साथ गठबंधन कर सकते हैं. हालांकि बसपा ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि वह चुनाव नतीजों के बाद जरूरत के आधार पर अपना फैसला करेंगे.
मुलायम और कांशीराम की दोस्ती
अखिलेश के संकेत एक बार फिर करीब चौथाई सदी पहले बनी दो दलों की दोस्‍ती की याद ताजा करती है. उल्‍लेखनीय है कि मुलायम सिंह यादव ने 1992 में समाजवादी पार्टी का गठन किया था और उसके एक साल बाद हुए चुनाव से पहले बसपा के साथ रणनीतिक गठबंधन किया था. उस वक्‍त बसपा की कमान कांशीराम के पास थी. उस समझौते के तहत सपा और बसपा ने क्रमश: 256 और 164 सीटों पर चुनाव लड़ा था. नतीजतन दोनों दलों को क्रमश: 109 और 67 सीटें मिली थीं. लेकिन यह दोस्‍ती बहुत लंबे समय तक नहीं चली और मई,1995 में बसपा ने मुलायम सिंह की सरकार से अपना समर्थन खींच लिया.

गेस्टहाउस कांड
उसका नतीजा यह हुआ कि सरकार अल्‍पमत में आ गई. उसके बाद ‘गेस्‍टहाउस कांड’ में मायावती के साथ दुर्व्‍यवहार की घटना हुई और उसके बाद इन दोनों दलों में इतनी तल्‍खी बढ़ी की आज तक ये किसी भी रूप में एक मंच पर नहीं दिखे और एक दूसरे के विकल्‍प के रूप में जनता के समक्ष पेश हुए. पिछले दो दशकों में यूपी की पूरी सियासत इन्‍हीं दोनों ध्रुवों के इर्द-गिर्द घूमती रही है. हालांकि बीच-बीच में बीजेपी का भी उभार देखने को मिला है लेकिन वह तकरीबन 15 वर्षों से यूपी में तीसरी ताकत ही बनकर रह पाई है. हालांकि बीजेपी में नरेंद्र मोदी के उदय के बाद से वह एक बार फिर देश में सबसे बड़ी ताकत के रूप में उभरी है.

अब मौजूदा परिदृश्‍य में सबकी निगाहें 11 मार्च के चुनावी नतीजों पर लगी है. दरअसल यूपी में स्‍पष्‍ट बहुमत नहीं मिलने की दशा में बीजेपी के पास विकल्‍प सीमित होंगे? उसको भी समर्थन के लिए मायावती की तरफ देखना होगा? वहीं सपा और बसपा का गठजोड़ एक बार फिर बीजेपी को सियासत के बियाबान में धकेल देगा. कुल मिलाकर इन परिस्थितियों में सत्‍ता की चाबी ‘किंग मेकर’ मायावती के पास होगी. हालांकि मायावती का इतिहास यह बताता है कि वह समर्थन देने में बहुत उदार नहीं रही हैं और उनकी शर्तें सपा और बीजेपी के लिए कठिन चुनौती साबित होगी. लेकिन यदि एक्जिट पोल की मानें तो यदि बीएसपी तीसरी ताकत ही बन पाती है तो 2019 के लोकसभा चुनावों को देखते हुए मायावती किस तरफ का रुख करेंगी, यह कल चुनाव नतीजों के बाद ही तय होगा.

Leave a Reply