GSTऔर डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में ट्रक ऑपरेटर यूनियन के आह्वान पर ट्रकों के पहिये थमे

डीजल की रोजाना बढ़ रही कीमतों और जीएसटी के कारण देश भर में ट्रक ऑपरेटर यूनियन के आह्वान पर ट्रकों के पहिये थम गए हैं। 4 अक्टूबर को यूनियन ने घोषणा की थी कि वो 9 और 10 अक्टूबर को देश भर में हड़ताल रखेगी।
उद्योग जगत को होगी परेशानी हड़ताल की वजह से देश भर में उद्योग जगत को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। ट्रकों की इस हड़ताल से उद्योग जगत भी प्रभावित होगा, क्योंकि ट्रक यूनियन से कोई भी गाड़ी उद्योगों से कोई भी कच्चा और तैयार माल नहीं उठाएगी। त्योहारी सीजन होने के कारण उद्योगों के पास माल तैयार करने के ऑर्डर भी हैं, ऐसे में उन्हें कच्चे माल को लाने और तैयार माल भेजने में दिक्कत झेलनी होगी।औद्योगिक संघ बीबीएनआईए के अध्यक्ष शैलेष अग्रवाल ने कहा कि इस हड़ताल से उद्योग जगत पर काफी मार पड़ेगी, क्योंकि पर्वों का सीजन है और उद्योगों के पास आर्डर भी है। ऐसे में कच्चा माल लाने तथा तैयार माल भेजने में उद्योगों को परेशानी झेलनी पड़ेगी।फेस्टिव सीजन में करोड़ों का कारोबार प्रभावित
इन दो दिनों की हड़ताल से फेस्टिव सीजन में करोड़ों रुपये का कारोबार प्रभावित होगा। ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन और ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस दोनों ही संगठनों ने हड़ताल की घोषणा की थी।दोनों संगठनों का कहना है कि सरकार अभी तक ट्रक मालिकों के लिए जीएसटी को लेकर के कोई राय नहीं बना पाई है। सरकारी अधिकारी भी हमें इसे समझा नहीं पा रहे हैं और न ही हमारी दिक्कतों को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं।