धन लाभ के योग भी बनते होली पर, जानें कैसे

होली की रात्रि में एकांत स्थल पर कुश के आसन पर बैठकर सामने लकड़ी की चौकी पर काला वस्त्र बिछाकर ताम्रपत्र पर बना तंत्र रक्षा ताबीज रखकर नीचे दिए हुए मंत्र की ग्यारह मालाएं हल्दी की माला के द्वारा जपकर सिद्ध कर लें…

ऊं ह्री ह्रीं क्लिंम

मंत्र जप के उपरांत काले धागे में ताबीज को डालकर गले में धारण कर लें। यदि किसी व्यक्ति को ऊपर बाधाओं से पीड़ा मिल रही हो, हो तो इस प्रयोग के द्वारा तंत्र रक्षा ताबीज करने से उससे मुक्ति मिलती है।

धन वृद्धि के लिए उपाय

अगर आप धन चाहते हैं तो इसके लिए किए जाने वाले टोटके के लिए भी होली उपयुक्त दिन है। आप होली की रात अपने घर में एकांत स्थान पर बैठकर नीचे लिखे मंत्र का जप कमल गट्टे की माला से करें।इस उपाय से आपके धन में वृद्धि होगी।

मंत्र- ऊं नमो धनदाय स्वाहा

राजकार्य में सफलता

चौराहे पर होली के समीप जाकर होली की उल्टे सात फेरे करें तथा प्रत्येक चक्र पूर्ण होने पर आक का टुकड़ा होली में फेंक दें। इस प्रकार कुल मिलाकर आक की जड़ के सात टुकड़े होली में फेंक दें। यह प्रयोग उस समय करना चाहिए, जब होली में अग्नि प्रज्ज्वलित नहीं हो।

आक का टुकड़ा इस प्रकार फेंकें कि वह होली में जाकर गिरे, होली से बाहर नहीं। ऐसा करने से राजपक्ष से चली आ रही बाधाएं दूर होती हैं। यदि किसी विशेष राजधिकारी से परेशानी आ रही हो तो आक के टुकड़ों पर गोरोचन द्वारा अनार की कलम से उसका नाम लिखकर होली में डालना चाहिए।

दुर्घटना से बचाव

दुर्घटना से बचाव के लिए होली की रात्रि में होलिका दहन से पूर्व हाथ में पांच काली गुज्जा लेकर होली की पांच परिक्रमा लगाकर अंत में होलिका की ओर पीठ करके पांचों को सिर के ऊपर पांच बार फेरकर हाथों को सिर के ऊपर उठाकर होली में फेंक देना चाहिए। स्वास्थ्य लाभ हेतु होलिका दहन के समय होली की ग्यारह परिक्रमा लगाते हुए मन ही मन निम्नलिखित मंत्र का जाप करना चाहिए:

देहि सौभाग्यमारोग्यं, देहि मे परमं सुखं।

रुपं देहि, जयं देहि, यशो देहि, द्विषो जहि।।

होली के बाद भी प्राय:काल इस मंत्र का ग्यारह बार जप अवश्य करना चाहिए।

Leave a Reply