ICC महिला विश्व कप: हरमनप्रीत का धमाकेदार शतक, ऑस्ट्रेलिया को हराकर भारत फाइनल में

डर्बी:  हरमनप्रीत कौर ने अपने तूफानी तेवरों का गुरुवार को यहां बेजोड़ नमूना पेश करके नाबाद शतक जमाया जिससे भारत ने मौजूदा चैंपियन आस्ट्रेलिया को 36 रन से हराकर आईसीसी महिला विश्व कप के फाइनल में प्रवेश कर लिया. फाइनल में उसका मुकाबला रविवार (23 जुलाई) को लॉर्ड्स में मेजबान इंग्लैंड से होगा. हरमनप्रीत ने भारतीय महिला वनडे की संभवत: सर्वश्रेष्ठ पारी खेली. उन्होंने 115 गेंदों पर 20 चौकों और सात छक्कों की मदद से नाबाद 171 रन बनाए जिससे भारत ने सुबह की बारिश के कारण 42 ओवरों के कर दिए गए मैच में चार विकेट पर 281 रन बनाए. ऑस्ट्रेलिया की टीम इसके जवाब में 40.1 ओवर में 245 रन पर आउट हो गई. ऑस्ट्रेलियाई पारी में एलिस विलानी (58 गेंदों पर 75 रन) और एलिस पेरी (38) ने चौथे विकेट के लिये 106 रन जोड़े, जबकि एलेक्स ब्लैकवेल (56 गेंदों पर 90 रन) और क्रिस्टीन बीम्स (नाबाद 11) ने आखिरी विकेट के लिये 76 रन जोड़े, लेकिन इससे हार का अंतर ही कम हुआ.

भारत दूसरी बार विश्व कप के फाइनल में

भारत दूसरी बार विश्व कप के फाइनल में पहुंचा है. इससे पहले वह 2005 में दक्षिण अफ्रीका में खेले गये टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचा था जहां उसे ऑस्ट्रेलिया के हाथों हार झेलनी पड़ी थी. भारतीय टीम ने इस तरह से उस हार के अलावा वर्तमान टूर्नामेंट के लीग चरण में अपने इस प्रतिद्वंद्वी से मिली पराजय का भी बदला चुकता किया. भारत अब फाइनल में उस इंग्लैंड से भिड़ेगा जिसे उसने लीग चरण के पहले मैच में शिकस्त दी थी.

और पढ़ें : महिला विश्वकप 2017: हरफनमौला प्रदर्शन के दम पर भारत सेमीफाइनल में

हरमन ने आखिरी ओवरों में कृष्णमूर्ति के साथ 20 गेंदों में 43 रन जोड़ें

भारतीय जीत की नायिका हरमनप्रीत रही. उन्होंने कप्तान मिताली राज (36) के साथ तीसरे विकेट के लिये 66 और फिर दीप्ति शर्मा के साथ चौथे विकेट के लिये 137 रन की साझेदारी की. इसमें दीप्ति का योगदान केवल 25 रन का था. दीप्ति के नाम पर ही भारत की तरफ से वनडे में सर्वाधिक स्कोर का रिकॉर्ड है. उन्होंने इसी वर्ष आयरलैंड के खिलाफ पोटचेफ्सट्रूम में 188 रन बनाये थे. हरमनप्रीत ने अंतिम ओवरों में वेदा कृष्णमूर्ति (नाबाद 16) के साथ केवल 20 गेंदों पर 43 रन जोड़ें.हरमनप्रीत ने शुरू में क्रीज पर पांव जमाने में समय लगाया. उन्होंने पहले 50 रन के लिये 64 गेंदें खेली. इसके बाद अगले 50 रन उन्होंने 26 गेंदों में बनाये जबकि 100 से 150 रन तक पहुंचने में उन्होंने केवल 17 गेंदें खेली. पारी के आखिरी ओवरों में तो उनके बल्ले से केवल चौके और छक्के निकल रहे थे.

बारिश की वजह मैच 42-42 ओवर का कर दिया गया

बारिश के कारण मैच लगभग तीन घंटे की देरी से शुरू हुआ और मैच 42-42 ओवर का कर दिया गया. मिताली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला करने में कोई हिचकिचाहट नहीं दिखायी लेकिन स्मृति मंदाना (छह) लगातार छठे मैच में अच्छी शुरुआत देने में नाकाम रही और मेगान स्कट के पारी के पहले ओवर में आउट हो गयी. दूसरी सलामी बल्लेबाज पूनम राउत (14) भी क्रीज पर पर्याप्त समय बिताने के बाद आफ स्पिनर एशलीग गार्डनर की डीप मिडविकेट पर कैच दे बैठी. न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले मैच में शतक जड़ने वाली मिताली ने संभलकर बल्लेबाजी की और इस बीच हरमनप्रीत ने दूसरे छोर से स्ट्राइक रोटेट करके उनका बखूबी साथ निभाया. मिताली को क्रिस्टीन बीम्स की गेंद पर जीवनदान मिला लेकिन वह इसका फायदा नहीं उठा पायी और इस लेग स्पिनर की अगली गेंद पर बोल्ड हो गयी.

और पढ़ें : महिला विश्व कप में भारत की लगातार चौथी जीत, श्रीलंका को 16 रन से हराया

स्पिनरों पर हावी रहीं हरमन

अब तक टूर्नामेंट में बल्लेबाजी का ज्यादा मौके नहीं पाने वाली हरमनप्रीत गुरुवार को पूरे रंग में थी. उन्होंने विशेष रूप से स्पिनरों को अपने निशाने पर रखा. इस 28 वर्षीय बल्लेबाज ने बीम्स की गेंद पर पारी का पहला छक्का लगाया. उन्होंने दूसरी स्पिनर जेस जोनासेन को भी नहीं बख्शा और उनके एक ओवर में दो चौके जड़ने के बाद बायें हाथ की इस स्पिनर के अगले ओवर में लगातार गेंदों को छह और चार रन के लिये भेजा. उन्होंने बीम्स की गेंद पर तेजी से दो रन चुराकर वनडे में अपना तीसरा शतक पूरा किया. इस बीच रन चुराने में ढिलायी बरतने के लिये वह दीप्ति पर चिल्लायी भी जिसके लिये बाद में उन्होंने अपनी इस जूनियर साथी से माफी भी मांगी.

हरमन  ने खेली तूफानी पारी

हरमनप्रीत ने शतक पूरा करने के लिये उन्होंने 90 गेंदें खेली तथा 12 चौके और दो छक्के लगाये. इसके बाद तो उन्हें केवल बाउंड्री नजर आ रही थी और आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को समझ में नहीं आ रहा था कि बिग बैश में उनके साथ खेल चुकी इस बल्लेबाज के लिये कहां गेंद करें. हरमनप्रीत ने गार्डनर पर लगातार दो छक्के और दो चौके लगाकर अपना पिछला सर्वश्रेष्ठ स्कोर (107 रन) पार किया. गार्डनर ने अपने पहले सात ओवरों में केवल 20 रन दिये थे, लेकिन इस ओवर में वह 23 रन लुटा गयी. उन्होंने स्कट पर दो चौके लगाने के बाद विलानी की गेंद छक्के और चौके लिये भेजी और फिर जल्द ही अपने 150 रन पूरे किये. इसके बाद उन्होंने आठ गेंदों पर 21 रन बनाये जिसमें जोनासन की लगातार गेंदों पर लगाये गये छक्के भी शामिल हैं. जोनासन ने सात ओवरों में 63 जबकि स्कट ने नौ ओवरों में 64 रन लुटाये.

और पढ़ें : महिला विश्व कप 2017 : गूगल ने डूडल बनाकर किया जश्न का आगाज

शुरू से ही दबाव में दिखी आस्ट्रेलिया की बल्लेबाजी

ऑस्ट्रेलिया के सामने बड़े लक्ष्य का दबाव था और इसका असर शुरू में ही उसकी बल्लेबाजों पर दिखा. भारतीयों की कसी हुई गेंदबाजी के सामने उसने आठवें ओवर तक बेथ मूनी (एक), कप्तान मेग लैनिंग (शून्य) और निकोल बोल्टन (14) के विकेट गंवा दिए जिससे उसका स्कोर तीन विकेट पर 21 रन हो गया. भारत को जल्द ही विलानी का विकेट भी मिल जाता, लेकिन जब वह दस रन पर थी तब शिखा पांडे ने उनका कैच छोड़ दिया. उन्होंने इसके बाद तूफानी अंदाज में बल्लेबाजी की तथा पूनम यादव के एक ओवर में तीन चौके लगाकर अपना अर्धशतक पूरा किया. जब विलानी खतरनाक रूप धारण कर चुकी थी तब राजेश्वरी गायकवाड़ की गेंद पर उन्होंने आगे बढ़कर शॉट खेला जो मिड ऑन पर खड़ी स्मृति मंदाना के पास पहुंच गया. विलानी ने अपनी पारी में 13 चौके लगाये. इसके बाद शिखा पांडे ने अपनी ही गेंद पर पेरी का कैच लपक दिया जिससे ऑस्ट्रेलिया की लक्ष्य तक पहुंचने की उम्मीदें भी समाप्त हो गयी. आस्ट्रेलिया बीच में इन दोनों के अलावा 28 रन के अंदर कुल पांच विकेट गंवाये. ब्लैकवेल ने हालांकि हार नहीं मानी और कुछ करारे शॉट जमाये. गायकवाड़ पर लगातार दो छक्के जड़कर उन्होंने भारतीयों को सोचने के लिये मजबूर कर दिया, लेकिन वह शतक पूरा नहीं कर पायी. उन्होंने अपनी पारी में दस चौके और तीन छक्के लगाये.  भारत की तरफ से दीप्ति शर्मा 59 रन देकर तीन, जबकि झूलन गोस्वामी और शिखा पांडे ने दो-दो विकेट लिये.

भारत की पारी: 

स्मृति मंदाना का विलानी बो स्कट 06
पूनम राउत का मूनी बो गार्डनर 14
मिताली राज बो बीम्स 36
हरमनप्रीत कौर नाबाद 171
दीप्ति शर्मा बो विलानी 25
वेदा कृष्णमूर्ति नाबाद 16

अतिरिक्त: 13, कुल (42 ओवरों में, चार विकेट पर) 281 रन.
विकेट पतन 1-6, 2-35, 3-101, 4-238
गेंदबाजी: स्कट 9-0-64-1, पैरी 9-1-40-0, जोनासन 7-0-63-0, गार्डनर 8-0-43-1, बीम्स 8-0-49-1, विलानी 1-0-19-1

ऑस्ट्रेलिया की पारी:

निकोल बोल्टन का एवं बो दीप्ति शर्मा 14
बेथ मूनी बो शिखा पांडे 01
मेग लैनिंग बो झूलन गोस्वामी 00
एलिस पैरी का वर्मा बो शिखा पांडे 38
एलिस विलानी का मंदाना बो राजेश्वरी गायकवाड़ 75
एलेक्स ब्लैकवेल बो दीप्ति शर्मा 90
एलिसा हीली का पांडे बो झूलन गोस्वामी 05
एशलीग गार्डनर का मिताली बो पूनम यादव 01
जेस जोनासन रन आउट 01
मेघान स्कट का गोस्वामी बो दीप्ति शर्मा 02
क्रिस्टीन बीम्स नाबाद 11

अतिरिक्त: 07 रन, कुल (40.1 ओवर में, सभी आउट) 245 रन 
विकेट पतन: 1-4, 2-9, 3-21, 4-126, 5-140, 6-148, 7-152, 8-154, 9-169 
गेंदबाजी: झूलन गोस्वामी 8-0-35-2, शिखा पांडे 6-1-17-2, दीप्ति शर्मा 7.1-0-59-3, राजेश्वरी गायकवाड़ 9-0-62-1, पूनम यादव 9-0-60-1, वेदा कृष्णमूर्ति 1-0-11-0