IND vs ENG: ‘इन तीन वजहों’ से ऋषभ पंत नॉटिंघम में टेस्ट करियर के आगाज को तैयार

लंदन:

मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया के लिए तीसरी टेस्ट चुनौती नजदीक आ रही है. दूसरे टेस्ट में बुरी तरह मुंह की खाने के बाद शनिवार से नॉटिंघम में खेले जाने वाले तीसरे टेस्ट के लिए टीम इंडिया में कई बदलाव संभावित हैं. इसी बीच लंदन से खबर आ रही है कि ट्रेंट ब्रिज में शुरू होने वाले तीसरे टेस्ट के लिए टीम मैनेजमेंट ने युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत को टेस्ट कैप देने का मन बना लिया है.

शुरुआती दोनों टेस्ट मैचों में टीम की पहली पसंद दिनेश कार्तिक फायदा उठाने में नाकाम रहे. फायदा इसलिए क्योंकि दिनेश कार्तिक को चोटिल ऋिद्धिमान साहा की जगह टीम में चुना गया था. ऐसे में भारत के लिए करीब दस साल बाद टेस्ट खेलने वाले दिनेश कार्तिक के पास खुद के टेस्ट करियर का अच्छा मौका था, लेकिन कार्तिक टीम इंडिया के बाकी बल्लेबाजों की तरह शुरुआती दोनों ही टेस्टों में औंधे मुंह गिरे

हालांकि दिनेश कार्तिक ने जब एसेक्स के खिलाफ वॉर्म-अप मुकाबले में 80 रन की पारी खेली, तो लगा था कि दिनेश टेस्ट सीरीज में बाकी बल्लेबाजों को चुनौती देने जा रहे हैं. लेकिन पिछली पांच पारियों में उनका स्कोर रन कम मानो किसी छोटे मोबाइल नंबर में तब्दील हो गया. पिछली पांच पारियों में कार्तिक के 0, 2, 0, 1 और 0 के स्कोर से हर कोई हैरान है. वहीं, सीम और स्विंग के सामने कार्तिक बिल्कुल असहाय दिखाई  पड़ रहे हैं. ऐसे में ऋषभ पंत को तीसरे टेस्ट के लिए इलेवन में जगह दिए जाने की खबर कोई आश्चर्य की बात नहीं है. ऋषभ ने एक और बात के चलते भारतीय टीम मैनेजमेंट पर बहुत ही ज्यादा दबाव बनाया हुआ था. और वह था उनका इंग्लैंड दौरे में भारत ए के लिए किया गया हालिया प्रदर्शन.

ऋषभ ने हाल ही में इंग्लैंड में इंडिया ए के लिए खेलते हुए ट्राई सीरीज में 5 मैचों में 52.66 के औसत से 158 रन बनाए, तो वहीं इस लेफ्टी बल्लेबाज ने विंडीज के खिलाफ चार दिनी अनऑफिशियल टेस्ट में 1 टेस्ट में 70.00 के औसत से इतने ही रन, तो इंग्लैंड के खिलाफ चारदिनी मैच में 59.50 के औसत से 119 रन बनाए. ऋषभ की इन्हीं पारियों के बाद जो तीसरी बात रही जिसने टीम मैनेजमेंट पर दबाव बनाया,  वह रहा दिग्गज राहुल द्रविड़ का बयान. द्रविड़ ने कहा कि ऋषभ टेस्ट के लिए पूरी तरह तैयार हैं और उन्हें जारी सीरीज खिलाया जाना चाहिए