IPL 2018: पंजाब की चयन नीति पर डेल स्‍टेन ने उठाए सवाल, पूछा-डेविड मिलर को मौका क्‍यों नहीं मिल रहा

इंदौर: किंग्‍स इलेवन पंजाब को आईपीएल 2018 के महत्‍वपूर्ण मुकाबले में कल रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के हाथों 10 विकेट की शर्मनाक हार झेलनी पड़ी. जोरदार फॉर्म में चल रहे ओपनर लोकेश राहुल और क्रिस गेल का नहीं चलना इस मैच में किंग्‍स इलेवन को भारी पड़ा. इन दोनों बल्‍लेबाजों के नहीं चलने के बाद टीम का मध्‍यक्रम पूरी तरह एक्‍सपोज हो गया. मध्‍यक्रम का कोई भी बल्‍लेबाज आरसीबी के गेंदबाजों के आगे ज्‍यादा देर नहीं टिक पाया और पतझड़ की तरह विकेट गिरने की दौर शुरू हो गया. मैच में पंजाब की बल्‍लेबाजी इतनी निराशाजनक रही कि टीम के तीन बल्‍लेबाज राहुल, गेल और एरोन फिंच ही दोहरी रनसंख्‍या तक पहुंच पाए.

मिडिल ऑर्डर ने अब तक किंग्‍स इलेवन को निराश ही किया है. युवराज सिंह अब तक के सबसे खराब दौर से गुजर रहे हैं. टीम के एक अन्‍य आक्रामक बल्‍लेबाज, दक्षिण अफ्रीका के डेविड मिलर को कल के मैच में प्‍लेइंग इलेवन में स्‍थान नहीं देना कई लोगों को हैरान कर गया. दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल ने किंग्‍स इलेवन की सिलेक्‍शन पॉलिसी पर सवाल उठाते हुए मिलर को टीम में जगह नहीं देने पर आश्‍चर्य जताया है. उन्‍होंने ट्वीट किया, ‘मिलर को खेलने का मौका क्‍यों नहीं मिल रहा है’

शॉर्टर फॉर्मेट में दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ बल्‍लेबाजों में से एक मिलर को आईपीएल के इस सीजन में केवल दो मैच ही खेलने को मिले हैं इसमें से एक बार नाबाद रहते हुए उन्‍होंने 50 रन बनाए हैं. किंग्‍स इलेवन के एरोन फिंच भी अभी तक टूर्नामेंट में कोई कमाल नहीं कर पाए हैं लेकिन इसके बावजूद उन्‍हें लगातार मौके दिए जा रहे हैं. फिंच ने अब तक आठ मैचों में 14 के बेहद कमजोर औसत से 84 रन  बनाए हैं. आलोचकों का मानना है कि मिडिल ऑर्डर के इस खराब प्रदर्शन के बीच मिलर का मौका देना ज्‍यादा उचित होता

मयंक अग्रवाल ने हाल ही घरेलू क्रिकेट में काफी रन बनाते हुए हर किसी का ध्‍यान आकर्षित किया था लेकिन आईपीएल 2018 में उनके बल्‍ले पर भी अब तक ‘ग्रहण ही लगा रहा है.’ अक्षर पटेल को हरफनमौला की हैसियत से किंग्‍स इलेवन ने चुना था लेकिन वे सात मैचों में केवल 56 रन बना पाए हैं. कल के मैच में मिली हार के बाद किंग्‍स इलेवन की प्‍लेऑफ की राह मुश्किल हो गई है. टीम इस समय अंकतालिका में पांचवें स्‍थान पर हैं.