एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा की कहानी | Priyanka Chopra Biography

प्रियंका चोपड़ा भारतीय फिल्म अभिनेत्री, गायक और सन 2000 की मिस वर्ल्ड ख़िताब को जितने वाली है. अपने फ़िल्मी करियर की बदौलत वह बॉलीवुड की सबसे महँगी अभिनेत्री बनी. आज प्रियंका का नाम भारत के नामी कलाकारों में लिया जाता है. इसके साथ ही प्रियंका चोपड़ा को मीडिया ने एशिया की सबसे सेक्सिस्ट महिला भी बताया. अपने अब तक के जीवन में उन्हें बहोत से पुरस्कार मिले है और बहोत से पुरस्कारों के लिये नामनिर्देशन भी हुआ है. जिसमे सर्वश्रेष्ट अभिनेत्री के लिये राष्ट्रिय फिल्म अवार्ड और पांच फिल्मफेयर अवार्ड और पद्म श्री भी शामिल है जो भारत सरकार ने उन्हें उनकी उपलब्धियों के लिए सन 2016 में दिया.

प्रियंका चोपड़ा /Priyanka Chopraका जन्म 18 जुलाई 1982 को बिहार राज्य के जमशेदपुर में हुआ. उनके पिता का नाम अशोक और माता का नाम मधु चोपड़ा है, उनके माता-पिता दोनों ही भारतीय आर्मी में सेवारत थे. उनके पिता पंजाबी है जबकि उनकी माता झारखण्ड से है. उनके एक भाई सिद्धार्थ भी है जो उनसे 6 साल छोटा है. परिणिति चोपड़ा, मीरा चोपड़ा और मन्नार उनकी बहने है. अपने पिता की नौकरी के कारन उनके परिवार को भारत की कई जगहों पर रहना पड़ा था जिनमे दिल्ली, चंडीगढ़, अम्बाला, लदाख, लखनऊ, बरेली और पुणे भी शामिल है. प्रियंका ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लखनऊ के गर्ल्स स्कूल से और बरेली के सेंट मारिया कॉलेज से ग्रहण की. डेली न्यूज़ में छपे साक्षात्कार में चोपड़ा ने कहा था की उसे बार-बार यात्रा करने से कुछ नही होता और बार-बार स्कूल बदलते रहने से भी उसे कुछ प्रभाव नही पड़ता. बल्कि वह तो इसे नए अनुभव और नए समाज की तरह अपनाती है. जितनी भी जगह चोपड़ा और उनका परिवार रहने गाया है उन जगहों पर प्रियंका ने अपने बचपन की यादो को सजोये रखा है. प्रियंका कहती थी, “मेरे ख्याल से जब मै चौथी कक्षा में थी तभी मेरे भाई का जन्म हुआ था. मेरे पिता उस समय आर्मी में थे. इसीलिए मुझे एक साल तक लेह में ही रहना पड़ा था. मै और मेरे दोस्तों ने उस पल काफी मस्ती की थी, वो पल आज भी मुझे याद है. प्रियंका ने कहा की जितने भी शहरो में वह रहने गयी उनमे से बरेली में उनकी सबसे ज्यादा यादे सजोई है. वह बरेली को ही अपना पैतृक गाव मानती है.

13 साल की आयु में, चोपड़ा पढाई करने के लिये यूनाइटेड स्टेट गयी, वहा वह अपनी आंटी के साथ रहने लगी थी. अपनी किशोरावस्था में प्रियंका को अमेरिका में रहते हुए काफी समस्याओ का सामना करना पड़ा था. जातीय समस्या मुख्य रूप से थी. वह कहती थी की, “मै एक अजीब लड़की थी, जिसे खुद का कभी सम्मान ही नही था, मै एक मध्यम-वर्गीय परिवार से आयी थी और मेरे पैरो पर सफ़ेद धब्बे भी थे…. लेकिन मै कड़ी महेनत करती थी. आज मेरे पैर 12 ब्रांड बेच रहे है.”

अमेरिका जाने के तीन साल बाद ही चोपड़ा भारत वापिस आ गयी, उस समय उसने सीनियर कॉलेज की पढाई पूरी कर ली थी. उसी समय प्रियंका ने स्थानिक “ब्यूटी क्वीन” होने का शीर्षक अपने नाम किया. इसके बाद वह और उसका परिवार इसी क्षेत्र में प्रियंका को आगे बढ़ाना चाहते थे इसीलिए उनकी माता ने प्रियंका को 2000 की फेमिना मिस इंडिया प्रतियोगिता में डाला. जिसमे उसका दूसरा नंबर आया, और उसने फेमिना मिस वर्ल्ड का शीर्षक भी जीता. बाद में चोपड़ा ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में हिस्सा लिया, जहा उन्हें मिस वर्ल्ड 2000 का ताज मिला इसके साथ ही उन्हें 30 नवम्बर 2000 को ही एशिया समुद्र की ब्यूटी क्वीन का शीर्षक दिया गया. मिस वर्ल्ड ख़िताब को जीतने वाली चोपड़ा पांचवी भारतीय है और इसे सात सालो में चौथी भारतीय है. मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीतने के बाद प्रियंका ने कॉलेज जानां शुरू किया. प्रियंका ने अपने साक्षात्कार में बताया था की मिस वर्ल्ड और मिस इंडिया का ख़िताब जीतने के बाद ही उन्हें फिल्मो के ऑफर आना शुरू हो गये थे.

Leave a Reply