रिलाइयन्स जिओ का धोखा जाने क्या है खबर

कोई भारत से पूछे की यहा कितने प्रकार के  लोग है तू जवाब हूगा 2 ही तरह के लोग हैं. एक जो जियो के दम पर खूब नेट और फोन की सुविधा .चला रहे हैं , दूसरे वो जो जियो सिम लेने के लिए लाइन में लगे हैं. खैर आप  जिसमें से भी हो ये खबर है काम की.

Reliance Jio  पर की गई बातचीत की पोल-पट्टी अमेरिका और सिंगापुर भेजी जा रही है. कंपनी दगाबाज निकली जा रही है. हम कहेंगे तो मजाक मानोगे. ये कहा है हैकर ग्रुप एनॉनिमस इंडिया ने. और सबूत भी दिया है. लेकिन ये हैकर्स की वेबसाइट बता रही है कि कुछ भी फ्री नहीं है.इनकी वेबसाइट पर एक पोस्ट लगी है. जिसमें बताया गया है कि रिलायंस एक साल पहले भी यूजर्स का डेटा चीन को सप्लाई कर रही थी. इस एक साल में कुछ नहीं बदला. बल्कि और तेजी आ गई है. क्लाइंट्स भी बढ़ गए हैं रिलायंस के. आप सोचेंगे कि एक साल पहले जियो कहां था, तो भाई साब, इसकी टेस्टिंग तो बहुत पहले से चल रही थी.जियो ने इस मामले पर कहा है, ‘जियो अपने कस्टमर्स की सिक्योरिटी और प्राइवेसी को बहुत सीरियसली लेती है. जियो अपने कस्टमर्स के डेटा को किसी और से शेयर नहीं करती है. जियो जो भी जानकारी लेती है, वो केवल इंटरनल एनालिसिस के लिए होती है, जिससे कि सर्विस को बेहतर बनाया जा सके.’

Leave a Reply