RSS मानहानि केस में राहुल गांधी पर आरोप तय, कोर्ट में कहा- मैं दोषी नहीं

मुंबई। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ महाराष्ट्र के भिवंडी की अदालत ने संघ से संबंधित आपराधिक मानहानि मामले में आरोप तय कर दिए। अदालत ने ये आरोप आईपीसी की धारा 499 और 500 के तहत तय किए। अब मामले की अगली सुनवाई 10 अगस्त को होगी।

मानहानि केस में मंगलवार को राहुल भिवंडी कोर्ट में पेश हुए, जहां उन्होंने बयान दर्ज कराते हुए अपनी सफाई में कहा कि मैं दोषी नहीं हूं। राहुल के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और अशोक गहलोत में अदालत में मौजूद थे।

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मंगलवार को मुंबई पहुंचे। जहां से वे संघ मानहानि केस मामले में महाराष्ट्र के भिवंडी की अदालत में पेश हुए। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के खिलाफ राहुल गांधी की कथित टिप्पणियों को लेकर उनके खिलाफ दर्ज आपराधिक मानहानि मामले में आज उनकी अदालत पेशी होनी थी।

इससे पहले राहुल गांधी ने भिवंडी के कॉरपोरेटर व कांग्रेस सदस्य मनोज म्हात्रे के परिवार वालों से मुलाकात की, जिनकी 14 फरवरी 2017 को हत्या कर दी गई थी।

राहुल भिवंडी में दंडाधिकारी की अदालत में पेश हुए। इस अदालत में आरएसएस के खिलाफ टिप्पणी करने के लिए उनके खिलाफ मानहानि का मामला दायर किया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष के वकील नारायण अय्यर ने कहा कि 2014 के मामले में अदालत उनके खिलाफ आरोप तय कर सकती है। राहुल गांधी ने छह मार्च, 2014 को एक चुनावी रैली में महात्मा गांधी की हत्या को आरएसएस से जोड़ा था।

पिछले सप्ताह मुंबई के कांग्रेस प्रमुख संजय निरुपम ने कहा था कि राहुल गांधी भिवंडी अदालत में करीब 11 बजे पेश होंगे। दो मई को कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष से 12 जून को हाजिर रहने को कहा था। उस दिन अदालत ने उनकी अर्जी पर सुनवाई की थी। कांग्रेस अध्यक्ष ने समरी ट्रायल की जगह दर्ज विस्तृत सुबूत मांगा था।

आज ‘शक्ति’ परियोजना की करेंगे शुरुआत –

जानकारी के मुताबिक कोर्ट में पेश होने के बाद राहुल गांधी शाम करीब चार बजे मुंबई के गोरेगांव में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करेंगे। इसके बाद वे पार्टी के नगर सेवकों से भी संवाद करेंगे। यहां वे ‘शक्ति’ नाम से एक परियोजना की भी शुरुआत करेंगे, जिससे पार्टी कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद कायम किया जा सकेगा और विभिन्न मुद्दों पर उनकी राय ली जा सकेगी।