गाजियाबाद के ATM से भी निकले थे ‘चूरन नोट’, बैंकर ने नहीं मानी थी बात

वित्त मंत्रालय ने बुधवार को दिल्ली के संगम विहार में एसबीआई के एटीएम से निकले चूरन वाले नोटों पर रिपोर्ट मांगी है। मंत्रालय पुलिस की जांच रिपोर्ट मिलने पर अगला कदम उठाएगा। ‘हिन्दुस्तान’ ने बुधवार को इस मामले का खुलासा किया था। एटीएम से नकली नोट निकलने के मामले में पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

इन दो जगहों पर भी निकल चुके हैं नकली नोट

दिल्ली के संगम विहार में एसबीआई एटीएम से 2000 रुपए का चूरन नोट निकलने के बाद एक ऐसा ही मामला गाजियाबाद में भी देखने को मिला। हालाकिं यह घटना पिछले महीने के 24 तारीख की है, लेकिन मीडिया में यह घटना न पहुंच पाने की वजह से इस बात से लोग अनजान रह गए। गाजियाबाद में एमएनसी के कर्मचारी को 2000 की नकली नोट एटीएम से मिला था। इसकी शिकायत करने पर बैंक अधिकारी इस बात को नकारते हुए कहा कि एटीएम में पैसे भरे जाने से पहले अच्छी तरह से चेक किया जाता है।

इतना ही नहीं, एटीएम से नकली नोट निकलने की घटना इसी माह 6 फरवरी को भी हुई थी। 26 साल के सिद्धांत शशिकर ने बताया कि इंद्रापुरम के ज्ञानखंड स्थित एसबीआई एटीएम पर 2000 के 5 नकली नोट निकले थे। शशिकर ने भी बैंक के अधिकारी के पास जाकर अपनी परेशानी बताई तो उन्होंने भी इस बात को मानने से इनकार कर दिया था।

जांच के लिए गठित होगी टीम

सूत्रों के मुताबिक, मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने इस मामले में संबंधित थाना क्षेत्र के शीर्ष पुलिस अधिकारी से बात की है। मंत्रालय को पुलिस की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। वह इसके बाद ही वित्तीय खुफिया विभाग के नेतृत्व में एक टीम गठित कर आगे की कार्यवाही करेगा।

मामले की FIR दर्ज

वहीं दूसरी ओर एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। एटीएम के फुटेज को खंगालने के बाद पुलिस ने मशीन में रुपये डालने वाले आखिरी व्यक्ति की पहचान की है। 6 फरवरी को एक व्यक्ति को एटीएम से चिल्ड्रेन बैंक ऑफ इंडिया लिखे 2000 के चार नोट मिले थे।

एसबीआई के मुताबिक बैंक भी मामले की जांच कर रहा है। जिस एजेंसी को बैंक ने पैसे भरने की जिम्मेदारी दी थी, उसकी ओर से जिस भी एटीएम में पैसा भरा गया है, उन सभी एटीएम की जांच होगी।

चूरन नोट में इस शख्स पर है शक की सुई 

संगम विहार इलाके में एसबीआई के एटीएम से नकली नोट निकलने के मामले में पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक, इस मामले में शक की सुई मोहम्मद ईशा नाम के युवक पर है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। वहीं, एटीएम के सीसीटीवी की फुटेज भी एसबीआई ने पुलिस को सौंप दी है।

दक्षिण-पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त रोमिल बानिया ने बताया कि इस मामले में पुलिस ने संबंधित एजेंसी और बैंक से एटीएम में पैसे डालने की जिम्मेदारी के बारे में सवाल पूछा था। बैंक से मिले जवाब के मुताबिक, एटीएम में पैसे डालने की जिम्मेदारी मोहम्मद ईशा नाम के युवक की थी। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। वहीं, बुधवार को पुलिस ने उस एटीएम को सील कर दिया। हालांकि, कुछ समय बाद पुलिस ने उसे फिर से खोल दिया।

बैंक भी हर पहलू की कर रहा आंतरिक जांच

एसबीआई ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि इस मामले में बैंक की ओर से भी जांच की जा रही है। एसबीआई प्रवक्ता के अनुसार, जिस एटीएम से नकली नोट निकले, वह बैंक की जिस शाखा में आता है उस शाखा को पुलिस की ओर से मिले नोटिस को भेज कर मामले की जांच में सहयोग करने को कहा गया है। बैंक की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जहां तक एटीएम में नकली नोट भरे जाने की बात है यह तकनीकी तौर पर संभव नहीं है। इसमें कुछ शरारती तत्व शामिल हैं।

Leave a Reply